2025 से पहले होगा बिहार विधानसभा का चुनाव ! चिराग पासवान ने कह दिया- कार्यकर्ता रहें तैयार

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क: बिहार की वर्तमान नीतीश सरकार अपना कार्यकाल पूरा नहीं करेगी. पांच साल पहले ही सरकार धरासायी हो जाएगी. कभी भी बिहार में विधानसभा चुनाव हो सकता है. वो भी 2025 से पहले कभी भी चुनाव हो सकता है. जिसके लिए हम सभी को तैयार रहना चाहिए. हम लोगों का जनाधार बढ़ा है. अपने दम पर हम लोगों को 24 लाख वोट मिले हैं. लगभग 6 प्रतिशत मत प्राप्त हुआ जो पार्टी के विस्तार का प्रतीक है.

दरअसल ये बातें लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने कही है. पार्टी के स्थापना दिवस के मौके पर उन्होंने पार्टी के कार्यकर्ताओं के नाम एक पत्र जारी किया. जिसमें उन्होंने कहा कि बिहार विधानसभा चुनाव में जाने से पहले पार्टी के पास दो विकल्प थे. पहला- बिहार से 6 लोकसभा और एक राज्यसभा सांसद होने के बावजूद गठबंधन द्वारा दी जा रही मात्र 15 सीटों पर पार्टी चुनाव लड़े. दूसरा- अधिकांश सीटों पर फ्रेंडली फाइट करें.



लोजपा संसदीय बोर्ड ने दूसरा रास्ता अख्तियार किया. चुनाव में पार्टी ने बिहार फल्रस्ट संकल्प के साथ अकेले 135 प्रत्याशी मैदान में उतारे थे. मुझे गव्र है कि अकेले अपने झंडे के नीचे चुनाव लड़कर पार्टी ने एक मजबूत जनाधार बनाया है. इस चुनाव में हमें एक सीट का नुकसान जरूर हुआ है. लेकिन लोजपा को खुद अपने दम पर 24 लाख वोट मिले और लगभग 6 प्रतिशत मत प्राप्त हुआ जो पार्टी के विस्तार का प्रतीक है.

चिराग पासवान ने लिखा है कि हमारी लड़ाई बिहार पर राज करने की नहीं थी. बिहार को बेहतर बनाकर उस पर नाज करने की मुहिम में पार्टी लगी है. जिसके लिए पार्टी ने खुद संघर्ष का रास्त चुना. पार्टी ने बूथ स्तर तक 1 करोड़ सदस्यता अभियान का लक्ष्य रखा था व अकेले 50 लाख सदस्य बिहार में बनाने थे, जिसे पूरा करने मे सभी ने योगदान दिया और आज उसी का नतीजा सामने है कि पार्टी ने बिना गठबंधन बिना स्टार प्रचारकों की फौज के अपने दम पर बिहार में 24 लाख वोट हासिल किए.

पापा हमेशा चाहते थे कि बिना किसी गठबंधन के पार्टी अकेले दम पर चुनाव सड़े ताकि पार्टी की नींव को मजबूत किया जा सके. 2020 के चुनाव में ये साबित कर दिया कि लोजपा के पास एक मजबूत जनाधार है जो आने वाले चुनाव मे पार्टी को नई ऊंचाईयों तक लेकर जाएगा. लक्ष्य की प्राप्ति के लिए ताकत और मेहनत के साथ आज ही जुटना होगा.

उन्होंने कहा कि चुनाव में हार जीत अपनी जगह है. बिहार में इस बार के चुनाव मे पार्टी की पहुंच सभी जिले तक पहुंच गयी है और हर सीट पर वोटों का इजाफा हुआ है. जो यह दर्शाता हे कि हमारी पार्टी का जनाधार पहले की अपेक्षा मजबूत हुआ है. पार्टी के बिहार फर्स्ट बिहारी फर्स्ट विजन डॉक्यूमेंट को जमकर सराहा गया है .