बोले आनंद किशोर, प्राइमरी व मिडिल स्कूल के शिक्षकों ने नहीं की है इंटर कॉपी की जांच

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार बोर्ड इंटरमीडिएट की परीक्षा में बेहद खराब रिजल्ट आने के बाद स्क्रूटनी के माध्यम से कथित गड़बड़ियों को दूर करने का भरोसा देने के बावजूद  छात्रो का गुस्सा अब तक शांत नहीं हुआ है. छात्रों  का भूख हड़ताल और प्रदर्शन भी लगातार जारी है. लेकिन इसी बीच बोर्ड के चेयरमैन आनंद किशोर ने भी सी मामले में अपना बयान दिया है. 

उन्होंने कहा कि इंटर के कॉपी जांच में कोई गड़बड़ी नहीं हुई है. प्राइमरी और मिडिल स्कूल के शिक्षकों द्वारा कॉपी जांच कराये जाने की बात बिलकुल गलत है. इंटर की कॉपी डिग्री कॉलेज के शिक्षकों द्वारा जांच कराई गुई है. बोर्ड ने कॉपी जांच के लिए परीक्षा के प्रश्नों के आंसर शीट भी उपलब्ध कराई थी. anan

आनंद किशोर ने कहा कि इंटर की परीक्षा का रिजल्ट जल्द से जल्द प्रकाशित करना बेहद जरूरी था.  इसमें अगर कोई भी त्रुटियाँ रह गई हैं तो उसे स्क्रूटनी के माध्यम से ठीक कर लिया जाएगा. जिसे 30 जून तक प्रकाशित कर दिया जाएगा. आनंद किशोर ने कहा कि इस संबंध में अब तक 7 लाख मामले सामने आये हैं.

बता दें कि इस साल बिहार इंटरमीडिएट की परीक्षा में 65 फीसदी स्टूडेंट्स फेल हो गए थे. 8 लाख परीक्षार्थी  के फेल होने के बाद   उनलोगों का गुस्सा फूट पड़ा. फिर सभी ने बिहार बोर्ड के कार्यालय को घेर काफी प्रदर्शन किया. जिसमें छात्रों की पुलिस के साथ भी भारी नोंकझोंक हुई थी. सभी छात्र अब भी पुनर्मूल्यांकन को लेकर अड़े हुए हैं.  साथ ही बोर्ड के चेयरमैन व शिक्षामंत्री को भी हटाये जाने के लिए सब भूख हड़ताल पर बैठे हुए हैं.

यह भी पढ़ें-  बिहार बोर्ड का बड़ा एलान : स्क्रूटनी की फीस कम हुई, बेवजह फेल छात्रों को तुरंत मिलेगी राहत
इंटर कापियों की स्क्रूटनी शुरू, 30 जून को आयेगा रिजल्ट