बड़ी खुशखबरी : वित्त रहित कॉलेज-स्कूल के स्टाफ को मिलेगा 3 साल का एकमुश्त वेतन

लाइव सिटीज डेस्क : राज्य सरकार ने वित्त रहित कॉलेज और स्कूल में पढ़ा रहे शिक्षकों और प्रोफ़ेसर को बड़ी खुशखबरी दी है. सालों से सैलरी का इंतजार कर रहे ऐसे स्टाफ्स को सरकार वेतन जारी करने जा रही है. इस बार राज्य सरकार वित्त रहित शिक्षण संस्थानों के कर्मचारियों को 3 साल का वेतन जारी कर रही है. यह निर्णय मंगलवार को सीएम नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुए कैबिनेट बैठक में लिया गया.
बता दें कि वित्तरहित 715 हाईस्कूल और 508 इंटर कॉलेज के शिक्षकों और शिक्षकेत्तर कर्मचारियों के वेतन के लिए 337 करोड़ 49 लाख जारी करने की स्वीकृति राज्य कैबिनेट ने दी. इस राशि से उक्त दोनों तरह के संस्थानों के 33,500 कर्मियों को 2011 से 2013 तक का बकाया वेतन एकमुश्त मिलेगा. साथ ही गैर वेतन मद में 129 करोड़ की राशि बिहार आकस्मिकता निधि से जारी की गई है.

सीएम नीतीश कुमार

मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई राज्य कैबिनेट की बैठक में 24 प्रस्तावों को स्वीकृति मिली. वहीं, दूसरी ओर किसान सलाहकारों का मानदेय 8 हजार से बढ़ाकर 12 हजार प्रति माह करने की मंजूरी कैबिनेट ने दी है. एक अप्रैल, 2017 की तिथि से इसका लाभ इन्हें दिया जाएगा.


इसका लाभ राज्य में कार्यरत 6480 किसान सलाहकारों को मिलेगा. इनके मानदेय के लिए पूर्व से स्वीकृत 64.24 करोड़ राशि को बढ़ाकर 95.35 करोड़ कर दिया गया है. बैठक के बाद कैबिनेट सचिवालय के विशेष सचिव यूएन पांडेय ने कहा कि वित्तीय वर्ष 2017-18 में विश्वविद्यालय कर्मियों के वेतन और पेंशन मद में 362 करोड़ और गैर वेतनादि मद में 130 करोड़ बिहार आकस्मिकता निधि से देने को मंजूरी मिली है. CABINET : बिहार के 23 जिलों में खुलेंगे सेंटर, सरकार कराएगी एग्जाम की तैयारी 

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में बिहार कैबिनेट की बैठक में बजट समेत 25 प्रस्तावों पर मुहर लगायी गयी. जानकारी के मुताबिक नये वित्तीय 2018-19 के दौरान राज्य का नया बजट आकार एक लाख 78 हजार करोड़ के आसपास होगा, जो चालू वित्तीय वर्ष 2017-18 के बजट एक लाख 60 हजार करोड़ से 18 हजार करोड़ ज्यादा होगा. नये बजट में योजनाओं पर खर्च करने के लिए कैपिटल एक्पेंडिचर मद में करीब 89 हजार करोड़ और इतने ही रुपये का प्रावधान वेतन-पेंशन, ब्याज भुगतान समेत अन्य स्थायी खर्चों के लिए प्रतिबद्ध एवं स्थापना व्यय मद में किया गया है.

About Ranjeet Jha 2253 Articles
I am Ranjeet Jha (पत्रकार)