10th रिजल्ट : गणित में जिसे आया था zero उसे स्क्रूटनी में आये 94 अंक

bseb-10th-result
प्रतीकात्मक फोटो

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार बोर्ड लगातार दो सालों से दुनिया भर में बदनामी झेल रहा है. कभी फर्जी टॉपर तो कभी गलत तरीके से कॉपी जांच का इल्जाम से बोर्ड उबर नहीं पा रहा है. इंटर की परीक्षा के कॉपी जांच में गड़बड़ी के बाद अब मैट्रिक परीक्षा में भी गड़बड़ी देखने को मिली है. दसवीं की परीक्षा में 50% बच्चों का फेल होना तो बिहार की शिक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़ा करता ही है साथ ही स्क्रूटनी के बाद भी चौंकाने वाले नतीजे सामने आये हैं. 

दरअसल, मैट्रिक के रिजल्ट जारी किये जाने के बाद जो छात्र अपने नतीजे से नाखुश थे उनके लिए स्क्रूटनी की व्यवस्था की गई. एक छात्र जिसे रिजल्ट में गणित विषय में शून्य अंक दिए गए थे उसे  स्क्रूटनी में 94 अंक प्राप्त हुए. ऐसे कई छात्र जिसने BSS कॉलेज बेगूसराय में स्क्रूटनी के लिए आवेदन दिया. उन सबके रिजल्ट में प्राप्त अंक से कहीं ज्यादा अंक स्क्रूटनी में प्राप्त हुए. 

स्क्रूटनी के दौरान झोल तो और भी कई विषयों में देखने को मिला. जैसे एक छात्र को संस्कृत में जीरो अंक आये थे. स्क्रूटनी के बाद उसे 40 अंक प्राप्त हुए. गणित, हिंदी, संस्कृत और विज्ञान विषयों में खूब गड़बड़ियाँ पायी गई हैं.  ऐसे ही एक छात्र जिसे मार्कशीट में संस्कृत विषय में 12 नंबर ही दिए गए थे. स्क्रूटनी के बाद उसे 61 अंक प्राप्त हुए. 

इस तरह की गड़बड़ी पर माध्यमिक शिक्षक संघ ने बोर्ड पर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि स्क्रूटनी के बाद हो रहे अंक सुधार से यह साफ हो जाता है कि कॉपी की जो पूर्व में जांच कर नतीजे घोषित किये गए उसमे कॉपी जांच करने वाले अयोग्य थे. बता दें कि बोर्ड पर यह आरोप लगा था कि प्राइमरी स्कूल के शिक्षकों ने कॉपी जाँच की थी. फेल स्टूडेंट्स ने बोर्ड ऑफिस के सामने प्रदर्शन भी किया था.

माध्यमिक शिक्षक संघ के जनरल सेक्रेटरी शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए राज्य सरकार से मांग की है कि बिहार बोर्ड में हुई इस गड़बड़ी का डिटेल इन्वेस्टीगेशन होना चाहिए.

यह भी पढ़ें-  TET परीक्षा का प्रश्न पत्र सोशल मीडिया में हो रहा वायरल !