राज्‍य सभा चुनाव : क्रॉस वोटिंग को कांग्रेस विधायकों की बोली एक करोड़ से स्‍टार्ट होगी

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्‍क : बस नीतीश कुमार के ग्रीन सिग्‍नल का इंतजार है . भाजपा तैयार है कांग्रेस के हिस्‍से की राज्‍य सभा की छठी सीट को हड़प जाने को . कौकब कादरी – तेजस्‍वी यादव के लिए कांग्रेस विधायकों को काबू में रख पाना बहुत मुश्किल होगा . होली के खत्‍म होते ही कई कांग्रेसी विधायकों के फोन बंद होने शुरु हो गए हैं . किंग महेन्‍द्र की बहुत तेज चर्चा है . इनके बारे में अंत तक अनुमान लगाना बहुत कठिन होता है . इस कारण, कांग्रेस को भी एप्रोच किए जाने की खबर है .

किंग महेन्‍द्र इधर-उधर हुए तो भाजपा और किसी धनपशु को लैंड करा सकती है . वह मान रही है कि कांग्रेस को ध्‍वस्‍त कर देने का इससे बेहतर अवसर प्राप्‍त नहीं होने वाला है . एनडीए के पास भाजपा के 17 अतिरिक्‍त वोट के अलावा रालोसपा और निर्दलीय के आठ वोट हैं . मतलब पचीस विधायक . बस कांग्रेस के दस विधायकों के बूते राज्‍य सभा की कांग्रेसी दावे की सीट पर एनडीए कब्‍जा कर ले सकती है .



king mahendra congress bihar jdu

 

कांग्रेस विधायक भी ललचाए घूम रहे हैं . अशोक चौधरी जदयू में चले ही गए हैं . सो, साफ कन्‍वर्सेशन में कोई परेशानी नहीं होनी है . कांग्रेस के भीतर कई ऐसे विधायक भी राज्‍य सभा चुनाव में झोली नहीं झोला भर लेने का मनमिजाज बना रहे हैं, जो अब तक अशोक चौधरी के साथ नहीं दिख रहे थे . चौधरी के साथ खुले में चार विधायक हैं, छुपे में कुल संख्‍या दर्जन भर बताई जा रही है .

कांग्रेस के अंदरखाने की खबर है कि क्रॉस वोटिंग के बदले प्रत्‍येक को एक करोड़ की गारंटी से बोली शुरु होगी . आगे अपनी काबिलियत से और जो जितना वसूल ले .याद रखें, पटना नगर निगम के चुनाव में काउंसिलर के वोट की कीमत दस लाख रुपये पार कर गई थी . यह तो राज्‍य सभा की सीट है .बोली की बात शुरु होते ही खबर मिलने लगी कि पार्टी के एक विधायक ऐसे हैं, जो वैसे तो समर्पित हैं, पर लीवर की बीमारी को ठीक कराने में दस लाख का खर्चा है . ऐसे में, एक करोड़ अभी वोट के बदले मिल जाए तो कौन-सी बुराई है . ठीक इसी तरीके से एक महिला विधायक के बारे में कहा जा रहा है कि वे खुद को बहुत गरीब मानती हैं . शायद हैं भी . अभी मौका आया है, तो सबों के साथ चलने को तैयार हो रहीं हैं . आगे और कई नाम जुड़ सकते हैं .

akhilesh singh congress bihar jdu

कांग्रेस अपनी छठी सीट के वास्‍ते धन से धन को लड़ने देने को किसे उम्‍मीदवार बनाएगी, बहुत स्‍पष्‍ट नहीं है . कई लोग मुकाबले में किंग महेन्‍द्र बनाम अखिलेश सिंह की लड़ाई देख रहे हैं . बहुत लोग निर्विरोध की सूरत में राजीव शुक्‍ला को आते देखते हैं . जनार्दन द्विेदी को नाम भी लिया जाता है . निर्विरोध की सूरत में बिहार से कांग्रेस नेताओं में मीरा कुमार और शकील अहमद की दावेदारी की चर्चा भी शुरु से होती रही है .इस बीच आज 4 मार्च की शाम प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्‍यक्ष कौकब कादरी ने राबड़ी देवी से जाकर मुलाकात की है . लालू प्रसाद के संदेशे का आदान-प्रदान हुआ है .

राजद में बहुत घमासान है

लालू प्रसाद की अनुपस्थिति में राजद के लिए राज्‍य सभा के दो उम्‍मीदवारों को तय कर पाना बहुत कठिन है . तेजस्‍वी यादव की परीक्षा होनी है . बालू माफिया के नाम से कुख्‍यात लालू प्रसाद के करीबी सुभाष यादव (दानापुर वाले) तक ने कहना शुरु कर दिया है कि टिकट नहीं दिया तो ठीक बात नहीं होगी .

रघुवंश प्रसाद सिंह, जगतानंद, मनोज कुमार झा, मंगनी लाल मंडल, अली अशरफ फातमी, शिवानंद तिवारी, हिना शाहेब की चर्चा भी होती है . सभी बड़े नाम हैं . फिर इनमें टिकट किसे, सचमुच बहुत टफ फैसला है .

tejashwi yadav, lalu yadav

जीतन राम मांझी को लेकर कंफ्यूजन

हम पार्टी के अध्‍यक्ष जीतन राम मांझी एनडीए को त्‍याग महागठबंधन में आ गए हैं . पर, राज्‍य सभा चले ही जायेंगे, यह तय नहीं है . उन्‍हें राज्‍य सभा नहीं भेजा गया, तो बिहार विधान परिषद की दो सीटें मिल सकती हैं . इसके लिए मांझी के बेटे संतोष मांझी और पूर्व मंत्री वृष्णि पटेल का नाम अभी से चलने लगा है . वैसे विधान परिषद की दावेदारी हम के प्रवक्‍ता दानिश रिजवान की ओर से भी है . विधान परिषद का चुनाव मई में होना है .

manjhi congress bihar jdu