पति- पत्नी के राज में क्राइम का आंकड़ा आसमान छूता था, अब 23वें स्थान पर आ गया है: नीतीश कुमार

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: दरभंगा के बेनीपुर में आयोजित सभा को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार ने कोरोना से बचने के लिए लोगों से आग्रह किया. साथ ही कहा कि कोरोना काल में चुनाव होने के कारण काफी कम समय मिला है. इसके बावजूद भी अधिक से अधिक जगहों पर जाने का प्रयास किया जा रहा है.

जब से हमलोगों को काम करने का मौका मिला तब से विकास का काम कर रहे हैं. महिला, दलित, पिछड़ा, अति-पिछड़ा समेत अल्पसंख्यक वर्ग के लोगों को विकास का भागीदार बनाया गया. साइकिल और पोशाक योजना चलाकर लड़कियों को पढ़ने के लिए जागरूक किया गया. जीविका समूह से जुड़ी महिलाएं जागरूक हो गयी हैं.



इस दौरान उन्होंने विरोधियों पर भी जमकर निशाना साधने का काम किया. पति पत्नी के राज का याद दिलाते हुए उन्होंने कहा कि पहले जंगलराज था, नरसंहार होते थे. अपहरण होता था. व्यवसायियों को डॉक्टरों को भगा दिया जाता था. लेकिन जब से हमें काम करने का मौका मिला हमने सबको कंट्रोल किया है. अब बिहार क्राइम के ग्राफ में 23वें स्थान पर आ गया है.

पहले कहां कोई सरकारी अस्पताल चलता था. पीएचसी में पहले एक महीना में 39 लोग जाते थे इलाज कराने. अब एक महीने में पीएचसी में इलाज के लिए 1 हजार लोग जाते हैं. क्या अपराध की स्थिति थी, शाम होने के बाद कोई घर से बाहर नहीं निकलने की कोशिश करता था. कोई दावा नहीं कर सकता है कि अपराध से पूरी तरह मुक्ति मिल सकती है. कुछ लोग गड़बड़ी तो जरूर करता है.

2009 में बिहार का विकास दर देश में सबसे अधिक हो गया था. आज प्रति व्यक्ति आय और विकास दर हर साल बढ़ रहा है. इंजीनियरिंग कॉलेज, पोलिटेक्निक कॉलेज, महिला आईटीआई, जीएनएम संस्थान, मेडिकल कॉलेज खोले गए. सभी मेडिकल कॉलेज में नर्स की पढ़ाई का इंतजाम किया गया है.