दिल्ली में दाढ़ी बनी वजह, NCC हेडक्वार्टर से जामिया के 10 स्टूडेंट को निकाला

लाइव सिटीज डेस्कः दिल्ली की JMI यूनिवर्सिटी से एक गंभीर मामला सामने आया है. ये मामला जामिया मिलिया के 10 छात्रों ने कथित तौर पर आरोप लगाया है कि उनके दाढ़ी नहीं हटाने पर बाहर कर दिया गया. जानकारी के मुताबिक 10 छात्रों को कथित रूप से सिर्फ इसलिए दिल्ली के रोहिणी स्थित एनसीसी मुख्यालय छोड़ने कह दिया गया क्योंकि उनकी दाढ़ी थी. ये स्टूडेंट्स 6 दिन के कैम्प के लिए मुख्यालय पहुंचे थे. उन्हें बटालियन हवलदार मेजर ने 19 दिसंबर को बताया था कि उन्हें अपनी दाढ़ी हटानी होगी.दिल्ली में इंडियन UN सेक्रेटरी से छिनतई, सरेराह बाइकर्स ने झपट लिया iPhone

यूपी के बिजनौर के रहने वाले एलएलबी पहले वर्ष के स्टूडंट दिलशाद अहमद ने कहा कि हमने आवेदन दिया था कि हम धार्मिक वजहों से दाढ़ी रखते हैं और हम पिछले दो सालों से अधिक समय से एनसीसी का हिस्सा हैं. हमसे कभी भी दाढ़ी हटाने को नहीं कहा गया. दिलशाद ने आगे बताया कि कैम्प के छठे दिन हमें जबरन हटने को कह दिया गया. हमारे सामान को हटा दिया गया. हम भी किसी दिन सेना में शामिल होना चाहते हैं, लेकिन इस तरह का रवैया तकलीफदेह है.



इस मामले में जब मीडिया ने जब कमांडिंग ऑफिसर एसबीएस यादव से पूछा तो उन्होंने प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया. स्टूडेंट्स के साथ मौजूद अधिकारी का कहना है कि वह यूनिवर्सिटी की वाइस चांसलर को घटना की रिपोर्ट सौंपेंगे. यूनिवर्सिटी ने आधिकारिक बयान में कहा है कि वह मामले की जांच कर पता लगाएगी कि कैम्प में क्या हुआ था.

जामिया की मीडिया संयोजक साइमा सईद ने कहा कि हमारा पहला उद्देश्य हमारे स्टूडेंट्स को सहयोग और कानूनी रूप से मदद देना है. बता दें कि इससे पहले 2013 में बेंगलुरु में 7 कॉलेज स्टूडेंट्स ने एनसीसी के फैसले खिलाफ कर्नाटक हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की थी. उनका आरोप था कि एनसीसी ने दाढ़ी रखने पर उन्हें परीक्षा में बैठने नहीं दिया.