जल्द बंद हो सकता है 2000 का नोट ! जारी नहीं कर रहा RBI, पढ़ें – एसबीआई की रिपोर्ट

2000 के नोट की तस्वीर

लाइव सिटीज डेस्कः RBI 2000 रुपये के नोट को वापस ले सकता है या फिर बड़ी राशि की मुद्राओं की छपाई बंद कर सकता है. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) की ओर से जारी रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है. आपको बता दें कि सरकार ने 8 नवंबर 2016 को पुराने 500-1000 रुपए के नोट को चलन से बाहर कर 2000 रुपए का नोट शुरू किया था. रिपोर्ट में कहा गया है कि तार्किक रुप से देंखें तो आमतौर पर 2000 के जरिए लेन देन करने में हमें मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. इस अब ऐसा लगता है कि आरबीई ने 2000 के नोटों को छापना बंद कर दिया है या फिर इनकी छपाई कम कर दी हैं.

आरबीआई ने 8 दिसंबर 2017 तक 15,78,700 करोड़ रुपए की कीमत वाले बड़े नोटों की छपाई की है, जिसमें से 2,46,300 करोड़ रुपए मूल्‍य के नोटों की आपूर्ति बाजार में नहीं की गई है. यह बात भारतीय स्‍टेट बैंक (एसबीआई) ने बुधवार को जारी अपनी एक रिपोर्ट में कही है. सरकार के इस कदम से नकदी संकट पैदा हो गया था और बंद हो चुके नोटों को बदलने और बैंक में जमा करने के लिए लंबी-लंबी लाइन लग गई थीं. आरबीआई ने 2000 का नया नोट पेश किया था और साथ ही साथ 500 रुपए का नए आकार का नोट भी जारी किया था. आरबीआई ने पहली बार नोटबंदी के बाद 200 रुपए का नोट भी जारी किया है. SBI ने बदल दिए 1200 ब्रांचों के IFSC कोड और नाम, पटना भी है लिस्ट में



इकोफ्लैश की रिपोर्ट में कहा गया है, 2,000 रुपये के नोटों को मार्केट में भुनाने में समस्याएं आ रही हैं. खुले पैसों की समस्या के चलते आरबीआई ने शायद इनकी छपाई को धीरे-धीरे कम कर दिया है. नोटबंदी के बाद केंद्रीय बैंक ने इनकी तेजी से छपाई की थी ताकि कैश की कमी को दूर किया जा सके. इसका अर्थ यह भी है कि सरकार और आरबीआई देश में प्रचलन में चल रही मुद्रा में 35 फीसदी हिस्सा छोटी करंसी का रखना चाहते हैं.

गौरतलब है कि पीएम नरेंद्र मोदी ने बीते साल 8 नवंबर को 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को वापस लेने का ऐलान किया था. उस वक्त देश में प्रचलित मुद्रा में इनकी हिस्सेदारी 86 से 87 पर्सेंट तक की थी. नोटबंदी के बाद देश में कैश की बड़ी कमी देखी गई थी और इस दबाव से निपटने के लिए ही केंद्रीय बैंक ने तेजी से 2000 रुपये के नोटों की छपाई की थी.