इस IIT के कैंपस में खुलेआम बिकती है ड्रग्स, इंजीनियरिंग के छात्रों को लगी नशे की गंदी लत

लाइव सिटीज डेस्कः देश के लिए इंजीनियर तैयार करने वाले आईआईटी कानपुर के परिसर में खुलेआम ड्रग्स का कारोबार हो रहा है. हॉस्टल तक में ड्रग्स बेची जा रही है. आस-पास गांव के लोग यहां नशे का सामान सप्लाई कर रहे हैं. अब इसे रोकने को धरपकड़ तेज की जाएगी. यह खुलासा बुधवार रात को जिलाधिकारी और आईआईटी प्रशासन की बैठक में हुआ. संस्थान परिसर में हुई बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई.

जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह ने बताया कि आईआईटी प्रशासन ने ड्रग्स बिकने और छात्रों के सेवन करने की बात बताई है. यह बड़ी बात है. इसलिए संस्थान प्रशासन से बैरियर लगाने को कहा गया है. उनके वार्डन सख्ती करेंगे. अगर फिर भी कोई गांव वाला ड्रग्स बेचते पकड़ा गया तो कार्रवाई होगी. प्रशासन आईआईटी में ड्रग्स नहीं बिकने देगा. इसलिए बिना जांच पड़ताल के कोई भी अंदर नहीं घुसेगा. 8वीं पास के लिए सरकारी नौकरी पाने का सुनहरा मौका, यहां निकली है बंपर वैकेंसी



सुरक्षा की दृष्टि से आईआईटी के अलावा अन्य आने-जाने वाले वाहन सवारों के लिए मुख्य रास्ता बंद किया जाएगा. डीएम ने बताया कि नानकारी समेत आस-पास रहने वाले अन्य लोगों के लिए अब आईआईटी का मेन रास्ता बंद किया जाएगा. सिर्फ पैदल आने-जाने वाले लोग जांच पड़ताल कराकर अंदर जा सकेंगे. आईआईटी से मंधना की ओर जाने पर दूसरा रास्ता तैयार हो गया है. उसे आस-पास के लोगों के लिए खोला जाएगा. इसके लिए उनको 1.2 किलोमीटर ज्यादा सफर तय करना होगा. चेकिंग करने में इससे ज्यादा समय लग जाता है. अब बिना चेकिंग कोई अंदर नहीं घुसेगा.

आईआईटी परिसर में चल रहे केंद्रीय विद्यालय के छात्र और शिक्षक मेन गेट का ही इस्तेमाल करेंगे. इसके लिए केंद्रीय विद्यालय को आईआईटी प्रशासन की ओर से पास जारी किया जाएगा. इस पास को दिखाकर ही आईआईटी परिसर में प्रवेश होगा. बिना पास के प्रवेश नहीं मिलेगा. सभी को गेट पर पास दिखाने के बाद ही इंट्री मिलेगी. वहीं आईआईटी के निदेशक मणीन्द्र अग्रवाल के मुताबिक जिलाधिकारी के साथ बैठक हुई है. इसमें रास्ता, ड्रग्स समेत अन्य बिंदुओं पर चर्चा हुई है.