गुजरात-हिमाचल चुनाव के रुझानों से गिर गया शेयर बाजार, 800 अंक नीचे लुढ़का सेंसेक्स

लाइव सिटीज डेस्कः गुजरात-हिमाचल के रुझानों के बाद सेंसेक्स में 800 अंकों की भारी गिरावट आ गई है. गुजरात में शुरुआती रुझानों में कांग्रेस के बढ़त बनाने से बाजार में भी जोरदार गिरावट दिखी. शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 800 अंकों तक टूट गया है तो वहीं निफ्टी 10100 के करीब आ गया. निफ्टी में 200 अंकों की कमजोरी के साथ कारोबार देखने को मिल रहा है. सेंसेक्स 32800 के नीचे आ गया है.

मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में भी बिकवाली हावी हुई है. बीएसई का मिडकैप इंडेक्स 2 फीसदी गिरा है, जबकि निफ्टी के मिडकैप 100 इंडेक्स में 2.3 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स करीब 2.5 फीसदी टूट गया है. फिलहाल बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 671 अंक यानि 2 फीसदी की गिरावट के साथ 32,791 के स्तर पर कारोबार कर रहा है. एनएसई का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 212 अंक यानि 2 फीसदी टूटकर 10121 के स्तर पर कारोबार कर रहा है. Gujarat Results LIVE : गुजरात में CM और डिप्टी सीएम पीछे, भाजपा-99 तो कांग्रेस 84 पर आगे



आपको बता दें कि विशेषज्ञों ने पहले ही कहा था कि शेयर बाजारों में इस सप्ताह कारोबार की दिशा गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों के नतीजों से तय होगी. इसके अलावा निवेशकों की निगाह अमेरिकी टैक्स रिफॉर्म और कच्चे तेल की कीमतों जैसे वैश्विक कारकों पर भी रहेगी. जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘इस सप्ताह बाजार को गुजरात, हिमाचल प्रदेश के चुनाव नतीजों से दिशा मिलेगी. इसके अलावा निवेशकों की संसद के शीतकालीन सत्र पर भी निगाह रहेगी.’

आज पड़ेगा बाजार पर असर

नायर ने कहा कि यदि नतीजे एक्जिट पोल से अलग आते हैं तो इससे निकट भविष्य में मध्यम अवधि में बाजार की धारणा पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा. चुनाव नतीजों के बाद बाजार की निगाह वैश्विक संकेतों तथा अमेरिकी कर सुधारों पर होगी. एक्जिट पोल में गुजरात और हिमाचल प्रदेश दोनों स्थानों पर भाजपा को पूर्ण बहुमत मिलते दिखाया गया है.

नतीजों पर बाजार की नजरें 

बीते सप्ताह बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 212.67 अंक या 0.63 प्रतिशत चढ़ा. वहीं नेशनल स्टाक एक्सचेंज के निफ्टी में 67.60 अंक या 0.65 प्रतिशत की तेजी आई. सैमको सिक्योरिटीज के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिमीत मोदी ने कहा था कि नतीजे आने के बाद बाजार में उत्साह का रुख आ सकता है. हालांकि, उसके बाद इसमें फिर करेक्शन शुरू हो सकता है. सिर्फ एक और सप्ताह तक बाजार में सक्रियता रहेगी. उसके बाद पूरी दुनिया में नए साल की छुट्टियों का मूड बन जाएगा. संसद की गतिविधियों पर बाजार की निगाह होगी.