हिंदू-मुस्लिम में फसाद कराने की ‘ढिबरी’ नीतीश कुमार के तेवर को देख सहम गई है

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्‍कः  भगवान दंगा कराने के लिए नहीं होते हैं. कुछ लोग ऐसा बना देते हैं . देश 2019 के लोक सभा चुनाव की ओर बढ़ने लगा है . मौजूदा सरकार के दिन कम होते जा रहे हैं . ऐसे में, 2014 के समय किए गए प्रॉमिस को भूलाने को देश को HMQ (हिंदू – मुस्लिम क्‍वेश्‍चन) में बांधा-बांटा जा रहा है . तैयारी ऐसी कि दूसरे सभी मुद्दे गौण हो जाएं . लोग सिर्फ हिंदू-मुस्लिम की बातें कर अपने खाली पेट को हवा से भर लें और वोट कर दें . रामनवमी को लेकर हाईअलर्ट पर बिहार, 5 जिले संवेदनशील घोषित

लेकिन, यह बात बिहार के मुख्‍य मंत्री नीतीश कुमार को अच्‍छी नहीं लग रही है . कुछ पोलिटिकल ज्ञानी इसे दबाव की राजनीति भी कह रहे हैं . कारण कि 2019 के लोक सभा चुनाव के लिए बिहार की 40 लोक सभा सीटों का एनडीए के घटक दलों के बीच बंटवारा बहुत टफ है . नीतीश कुमार भाजपा की रंगदारी कबूल करने को तैयार नहीं हैं . साथ-साथ, बिहार विधान सभा चुनाव की साफ तस्‍वीर अभी तो बनती नहीं दिख रही है . देश का पोलिटिकल सीन देखें तो एनडीए के पुराने घटक दल तेजी से साथ छोड़ रहे हैं .

सही है, नीतीश कुमार कभी दंगा पसंद मुख्‍य मंत्री नहीं रहे हैं . चाहे उन्‍होंने पोलिटिकली कुछ भी अच्‍छा–बुरा किया हो, बिहार में दंगा करने की छूट तो किसी को नहीं दी है . इसलिए, पिछले कुछ दिनों से वे करप्‍शन के साथ कॉम्‍युनल हारमोनी को डिस्‍टर्ब करने वालों को साथ-साथ टारगेट कर रहे हैं . पीछे नहीं, सामने बैठाकर साफ-साफ बोल दे रहे हैं . रामनवमी पर रोशन हुई राजधानी, Patna के महावीर मंदिर में उमड़ा श्रद्धालुओं का जनसैलाब

cm-nitish12
नीतीश कुमार (File Pic)

नीतीश कुमार के तेवर इतने तीखे हैं कि रामनवमी में भड़के बयान देने को तैयार नेतागण भी सटक सीताराम हो गए हैं . प्रशासन भी जान गया है कि भले ही नेताजी सरकार में साथ हैं, हिंदू-मुस्लिम का फसाद करने पर इन्‍हें छोड़ना नहीं है . भागलपुर में पिछले हफ्ते सेंट्रल मिनिस्‍टर अश्विनी कुमार चौबे के बेटे अर्जित शाश्‍वत के तांडव से नीतीश कुमार बेहद खफा हैं . सबों को पता है कि पटना से हुक्‍म न गया होता तो चौबे के बेटे को केस में नामजद नहीं किया गया होता .

रामनवमी में गिरिराज सिंह अपने नवादा से दूर हैं . न अश्विनी कुमार चौबे और न ही उनके बेटे भागलपुर जा सके हैं . साफ-साफ संकेतों में नीतीश कुमार भाजपा को समझा दे रहे हैं . आज रामनवमी के दिन 25 मार्च को पटना के सभी अखबार नीतीश कुमार के मिजाज को बयां कर रहे हैं . मुख्‍य मंत्री ने 24 मार्च को पटना में सम्राट अशोक से जुडे कार्यक्रम को संबोधित किया था . नीतीश कुमार के भाषण को उद्धृत करते हुए दैनिक जागरण ने छापा है – ‘बहुत से लोग इस बात को लगे रहते हैं कि समाज में टकराव हो जाए . वोटर को कैसे प्रभावित किया जाए, यह देखते हैं . झगड़ा लगाते हैं . ‘

हिंदुस्‍तान अखबार ने मुख्‍य मंत्री के भाषण को ऐसे छापा है – ‘ बहुत तरह के लोग लगे रहते हैं कि झगड़ा हो जाए . इससे टकराव हो जाएगा . हम तो इसकी चिंता में लगे रहते हैं . वहीं बहुतों को दूसरी फीलिंग होगी कि झगड़ा लगा देने से एक पक्ष हमारे साथ आ जाएगा . इससे बचना चाहिए . ‘ दैनिक भास्‍कर के शब्‍दों में नीतीश कुमार ने ये कहा – ‘ कुछ लोगों को समाज में शांति अच्‍छी नहीं लगती है . वे इसी कोशिश में रहते हैं कि किस तरह गड़बड़ी हो और एक पक्ष को अपन तरफ कर लिया जाए . ‘

About Md. Saheb Ali 4454 Articles
Md. Saheb Ali

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*