‘लालू के पीछे बैठ जेल भिजवा दिया, अब तेजस्वी के पीछे हैं, चाणक्य न बनें शिवानंद’

लाइव सिटीज, पटना डेस्कः जब से आरजेडी चीफ लालू प्रसाद चारा घोटाला मामले में जेल गए हैं तबसे राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी की भी खूब टीआरपी हुई है. तकरीबन लालू प्रसाद की हर खबर में ही उनका जिक्र होता है. या फिर विरोधियों की ओर से जब भी राजद पर हमला बोला जाता है शिवानंद तिवारी भी निशाने पर जरूर होते हैं. विरोधी साफ-साफ कहते हैं शिवानंद तिवारी ने ही लालू प्रसाद को फंसवाने का काम किया. और अब लालू प्रसाद के साथ मिलकर पार्टी को खोखला कर रहे हैं. आज गुरुवार को फिर हमला हुआ है शिवानंत तिवारी पर.

जदयू प्रवक्ता संजय सिंह(फाइल फोटो)

जदयू के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने बड़ा बयान दिया है शिवानंत तिवारी पर. उन्होंने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि चाणक्य ने नंद वंश के खात्मे का संकल्प लिया था. संजय सिंह ने कहा कि शिवानंत तिवारी ने पहले लालू प्रसाद की पिछली सीट पर बैठ कर उनको जेल भिजवाया और अब एक्स डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव के पीछे बैठे हैं. उन्होंने कहा कि शिवानंद खुद को चाणक्य समझने की भूल न करें. चाणक्य का मकसद जनता के हित में था और आपका स्वार्थ हित में है. चाईबासा मामले में लालू प्रसाद व जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा

बता दें कि चारा घोटाला के चाईबासा मामले में लालू प्रसाद को मिली सजा को शिवानंद तिवारी ने प्रत्याशित बताया था. उन्होंने कहा था कि इस फैसले से कोई आश्चर्य नहीं हुआ. आने वाले दिनों में सभी मामलो में ऐसे ही फैसले आने की उम्मीद है. सभी मामले एक ही तरह के है, गवाह भी एक है तो फैसला भी ऐसा ही होगा. शिवानंद ने एक बार फिर न्यायपालिका पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि न्यायपालिका में सबकुछ ठीक नहीं है. ये बातें आज सुप्रीम कोर्ट के चार जज भी कह रहे हैं.

उधर लालू प्रसाद पर आए फैसले के तुरंत बाद तेजस्वी यादव का भी रिएक्शन आया था. तेजस्वी ने केंद्र को तो ब्लेम किया ही था, इसके साथ ही सीधे तौर पर बिहार सीएम नीतीश कुमार पर आरोप लगाया था. तेजस्वी यादव ने कहा था कि लालू प्रसाद जी को नीतीश कुमार ने फंसाने का काम किया है. उन्होंने आगे कहा था कि यही वजह है कि नीतीश कुमार बार-बार दिल्ली टू पटना करते थे. जाहिर है कि राजद की ओर आए ऐसे बयानों से अब जदयू गरम है.

About Md. Saheb Ali 3085 Articles
Md. Saheb Ali

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*