आडवाणी ने उठा ली है बड़ी जिम्मेदारी, खत्म कर रहे हैं संसद में गतिरोध को

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्कः भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने एक बड़ा काम का जिम्मा उठा लिया है. आडवाणी अब संसद में चल रहे बवाल को रोकने के लिए खुद आगे आ गए हैं. दरअसल लोकसभा में बीते 15 दिनों से लगातार हंगामा जारी है. एक भी दिन सदन की कार्यवाही सुचारू रूप से नहीं चल सकी है. ऐसे में बीजेपी के सबसे वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने खुद सदन में गतिरोध खत्म कराने का जिम्मा उठाया है. आडवाणी लोकसभा में वरिष्ठतम सांसदों में से एक हैं और विपक्ष के नेता भी उनका सम्मान करते हैं.

सदन में लगातार हो रहे हंगामे से वरिष्ठ बीजेपी नेता आडवाणी नाखुश हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इसी कोशिश में आडवाणी ने गुरुवार को लोकसभा में हंगामा कर रहे टीआरएस सांसद को अपनी सीट पर बुलाया और उनकी समस्या सुनी. टीआरएस सांसदों की मांग है कि तेलंगाना में भी सरकारी नौकरियों में आरक्षण की सीमा को 50 फीसद से बढ़ाया जाए, जैसा प्रावधान तमिलनाडु जैसे राज्यों में किया गया है.

इसी क्रम में आडवाणी ने गतिरोध खत्म करने को लेकर स्पीकर सुमित्रा महाजन से मुलाकात की और टीआरएस सांसद को बताया कि स्पीकर सदन को चलाने की पूरी कोशिश में जुटी हैं. हालांकि इस कोशिश के बाद भी शुक्रवार को सदन की कार्यवाही नहीं चल सकी. यह पहला मौका नहीं है जब आडवाणी सदन की कार्यवाही न चलने से नाराज हैं. साल 2016 के शीतकालीन सत्र में सदन में हंगामे पर आडवाणी ने अपनी सीट पर खड़े होकर कहा था कि वह संसद सदस्यता से इस्तीफा देने के बारे में सोच रहे हैं. उन्होंने सदन न चला पाने पर स्पीकर और संसदीय कार्यमंत्री पर अपनी नाराजगी जाहिर की थी.

बीते दिनों मीडिया से बातचीत में सोनिया गांधी ने मोदी सरकार पर संसद में गतिरोध खत्म न करने का आरोप लगाया था. गतिरोध को बातचीत के जरिए सुलझाने के सवाल पर सोनिया ने कहा कि मौजूदा सरकार के साथ ये मुमकिन नहीं है क्योंकि इस सरकार के पास वो जज्बा ही नहीं है. वाजपेयी जी की सरकार में बातचीत के जरिए गतिरोध को दूर किया जाता था.

About Md. Saheb Ali 4925 Articles
Md. Saheb Ali

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*