होटवार जेल में सुबह-शाम लग रहा है लालू का दरबार, पटना से पहुंचा संकट मोचन मंदिर का प्रसाद

लालू प्रसाद, राजद सुप्रीमो(फाइल फोटो)

लाइव सिटीज डेस्कः चारा घोटाला मामले में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद को सीबीआई कोर्ट ने दोषी करार दिया है. उनके साथ-साथ कुल 16 लोगों को दोषी बनाया गया है. अब इंतेजार है 3 जनवरी का. जब कोर्ट सजा का एलान करेगी. इधर सजा से बेखबर लालू प्रसाद रांची के होटवार जेल में बेफिक्र होकर दिन काट रहे हैं. ऐसा लगता है उन्हें अपनी सजा को लेकर कोई चिन्ता ही नहीं है. कभी पटना से खैनी आती है. कभी लिट्टी चोखा का मजा, तो कभी खुद कटहल की सब्जी बनाने लगते हैं लालू प्रसाद. अब एक और बात सामने आई है. पता चला है कि होटवार जेल में लालू प्रसाद दरबार लगा रहे हैं.

रांची स्थित होटवार के बिरसा मुंडा जेल की तस्वीर

होटवार जेल में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद का दरबार लग रहा है. अपर डिवीजन सेल में लालू प्रसाद के साथ पूर्व सांसद आरके राणा, जगदीश शर्मा, सावना लकड़ा, राजा पीटर, कमल किशोर भगत आदि राजनेता बंद है. जेल सोर्सेज की माने तो दिन भर लालू प्रसाद का दरबार वहां लगा रहता है. अखबार पढ़ने के बाद खबरों पर चर्चा होती है़ सभी नेता अपना-अपना विचार रखते हैं. इस दौरान झारखंड व बिहार की राजनीति पर मंत्रणा की जाती है. चूंकि अपर डिवीजन सेल का मेस उसी में है, इसलिए चाय-नाश्ता का दौर भी चलता रहता है.



बातचीत के बाद सभी थोड़ा देर आराम करते हैं. फिर शाम में सभी एक ही सेल में कुर्सी लगा कर टीवी देखते हैं. लालू प्रसाद झारखंड में आजसू व अन्य पार्टियों के बारे में जानकारी लेते रहते हैं. उधर लालू प्रसाद के पास अनिल सिंह आजाद ने उनका पसंदीदा स्वीट कॉर्न, हरा चना, पालक, भतुआ, मेथी साग, भंटा (गोल वाला बैगन), धनिया पत्ता व हरी मिर्च जेल के अंदर भिजवाया. जबकि लालू प्रसाद के बिहार स्थित आवास से उनके लिए बासमती अरवा चावल, अरहर दाल, सेव व संकट मोचन मंदिर का प्रसाद आया है. जब लालू प्रसाद का पूरा परिवार एक साथ जेल में होगा, तब वहीं उनकी राजनीति होगी

अनिल सिंह आजाद ने बताया कि जब तक लालू जी जेल में रहेंगे, वह हमेशा उनके लिए ताजी सब्जी भिजवाते रहेंगे. वह हमारे लिए सबसे बड़े नेता हैं और हमारे मेहमान हैं. अतिथि देवो भवो की तर्ज पर हम उनकी सेवा कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि लालू यादव को बैंगन का भर्ता काफी पसंद है. हर प्रकार की साग भी वे बड़े चाव से खाते हैं. इसलिए पालक, भतुआ व मेथी का साग उन्हें भिजवाया गया है़ वह तीनों समय के भोजन में साग अवश्य खाते हैं.