बिहार में निगरानी का डबल अटैक, नालंदा में CO और सीतामढ़ी में APP दबोचे गए

नालंदा और सीतामढ़ी में विजिलेंस का एक्शन

लाइव सिटीज डेस्कः बिहार में रिश्वतखोर सरकारी अधिकारियों के पकड़े जाने का सिलसिला थम नहीं रहा है. एक बार फिर से बड़ी कार्रवाई हुई है. जी हां…विजिलेंस का बड़ा एक्शन हुआ है नालंदा और सीतामढ़ी में. बताया जा रहा है कि निगरानी की टीम में सीतामढ़ी से अपर लोक अभियोजक और नालंदा से सीओ को गिरफ्तार किया है. दोनों को ही गिरफ्तारी के बाद निगरानी की टीम पूछताछ के लिए पटना लेकर रवाना हो गई है. समस्तीपुर में विजिलेंस की बड़ी कार्रवाई, ASI को घूस लेते रंगे हाथों पकड़ा

सीतामढ़ी में एपीपी गिरफ्तार

पहला मामला सीतामढ़ी का है, जहां अपर लोक अभियोजक सत्येंद्र तिवारी को विजिलेंस की टीम ने रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया. बताया जा रहा है कि बथनाहा थाना के रहने वाले सुभान अंसारी ने निगरानी विभाग में आरोपी अधिकारी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी. उन पर आरोप लाया गया था कि वो कोर्ट में चल रहे एक केस में मदद करने के लिए 21 हजार रुपये रिश्वत की डिमांड कर रहे हैं. शिकायत के बाद विजिलेंस ने क्विक एक्शन लेते हुए सत्येंद्र तिवारी को गिरफ्तार कर लिया.



नालंदा में सीओ गिरफ्तार

वहीं दूसरा मामला नालंदा में सामने आया जहां निगरानी अन्वेषण ब्यूरो पटना की टीम ने हिलसा के अंचलाधिकारी सुबोध कुमार को रिश्वत में 20000 लेते रंगे हाथ पकड़ा. निगरानी के डीएसपी गोपाल पासवान ने बताया कि विशुनपुर खीरु बिग्गा गांव निवासी रिंकू देवी ने शिकायत दर्ज करायी थी कि दाखिल-खारिज के एवज में अंचलाधिकारी द्वारा रिश्वत की मांग की जा रही है.

मामले की जानकारी मिलते ही इसका सत्यापन किया गया और उसके बाद एक टीम का गठन किया गया. टीम द्वारा आज अंचलाधिकारी सुबोध कुमार को बतौर रिश्वत 20000 लेते रंगे हाथ पकड़ा. निगरानी की टीम में इंस्पेक्टर अश्वनी दत्ता, विजय कुमार, एस आई सरवन कुमार चंद्र भूषण, अशोक सिन्हा, मणिकांत शामिल थे. रिश्वतखोर अंचलाधिकारी को निगरानी की टीम अपने साथ पटना ले गए.