अब ट्रेनों में होगी पुलिस चौकी, किसी भी परेशानी पर आपको इस कोच में जाना होगा

लाइव सिटीज डेस्कः भारतीय रेल यात्रियों की सुरक्षा और सुविधा की दिशा में एक कदम और आगे बढ़कर अब हर ट्रेन में पुलिस चौकी स्थापित करने जा रही है. इससे ट्रेनों में यात्री महफूज होकर सफर कर सकेंगे. मुश्किल में भी यात्रियों की सुनवाई को अस्थाई पुलिस चौकी होगी. मसलन यात्री जरूरत पर सीधा शिकायत दर्ज कराने पहुंच सकेंगे.

यह व्यवस्था ट्रेन की सुरक्षा में चल रहे सुरक्षाकर्मियों के अतिरिक्त होगी. सबकुछ ठीक रहा तो ट्रेनों के एस-वन कोच में अस्थाई सुरक्षा चौकी अस्तित्व में जल्द आ जाएगी. इस चौकी का पता एस-1 कोच की बर्थ नंबर 63 होगा. दरअसल ट्रेनों में अपराध पर अंकुश लगाने को मंत्रालय पहले से गंभीर है. रेलवे देगा एक हेल्पलाइन नंबर जो कभी नहीं बदलेगा, ट्रेन हादसे पर मिलेगी सही जानकारी



यात्रियों की सुरक्षा को आरपीएफ, जीआरपी के जवान असलहों से लैस होकर चलते हैं. सफर में सुरक्षाकर्मियों के मोबाइल रहने के कारण 24 कोच की ट्रेनों में इन्हें खोजना मुश्किल होता है. इस समस्या से निजात दिलाने को रेलवे बोर्ड प्रत्येक ट्रेन में अस्थाई सुरक्षा चौकी की रणनीति बना रहा है.

प्रत्येक ट्रेन में एस-वन कोच की 63 नंबर बर्थ पर प्रतीकात्मक चौकी होगी. ट्रेन के मंजिल को रवाना होने के साथ ही बर्थ पर एक दारोगा की ड्यूटी लगा दी लाएगी. उसके पास वायरलेस सेट होगा, जिससे वह जरूरत पडऩे पर सुरक्षा ड्यूटी में चल रहे कर्मियों को कॉल कर सके. वायरलेस से मैसेज मिलने पर जवानों को मोर्चा संभालने में मुश्किल नहीं होगी.

ट्रेन में कई तरह के अपराध होते हैं. जिसमें चोरी, उचक्कागिरी, छेडख़ानी भी शामिल हैं. पीडि़त यात्री बच्चों के साथ कहां जाए, क्या करे, उसके लिए बड़ी मुसीबत. नई व्यवस्था में पीडि़त यात्री को सीधा एस-वन कोच के बर्थ नंबर 63 पर पहुंच कर अपनी पीड़ा बतानी होगी. मालूम हो कि मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पूर्व मध्य रेल हाजीपुर राजेश कुमार ने बताया कि रेल मंत्रालय ने ट्रेनों में एस-वन कोच का 63 नंबर बर्थ सुरक्षाकर्मियों के लिए आरक्षित कर दिया है. इस बर्थ पर एक सुरक्षाकर्मी को ट्रेन के मंजिल तक पहुंचने तक ड्यूटी देनी होगी.