RBI ने बताई हैरान करने वाली बात, ऐसे खपाया जा रहा है 500 और 1000 के पुराने नोटों को

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्कः जब से देश में नोटबंदी हुई, बहुत ही तेजी से पुराने 500 और 1000 के नोटों को हटा लिया गया. लेकिन एक सवाल लोगों के जेहन में बना रहा कि आखिर पुराने नोटों का क्या हुआ. कहां गए सभी पुराने नोट. दरअसल 8 नवंबर 2016 की मध्य-रात्रि से 500 और 1000 रुपए के जिन नोटों को बैन कर दिया गया था. उन्हें अब नष्ट किए जाने की प्रक्रिया जारी है. यह जानकारी खुद भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने दी है. Patna Police की बड़ी रेड : अब Indian Oil का चीफ मैनेजर शराब पार्टी करते पकड़ाया



आरबीआई ने बताया कि इन पुराने नोटों को मशीनों के जरिए टुकड़ों में काटकर और ईंट की तरह ठोस बनाकर एक टेंडर प्रक्रिया के जरिए नष्ट किया जा रहा है. केंद्र सरकार ने इसके पहले अनुमान लगाया था कि आरबीआई के पास कुल 15.28 लाख करोड़ रुपए के नोट जमा हुए थे. भारतीय रिजर्व बैंक ने बताया, 500 और 1000 के पुराने नोटों को पहले गिना गया, इसके बाद असली-नकली नोटों की पहचान की गई यानी उनका वेरिफिकेशन किया गया.

इसके बाद इन पुराने नोटों को आरबीआई की विभिन्न शाखाओं में मौजूद मशीनों की मदद से टुकड़े-टुकड़े करके एक ईंट की तरह आकार बना दिया जाता है, फिर इन्हें टेंडर निकालकर नष्ट करवाया जा रहा है. आरबीआई ने यह जानकारी एक आरटीआई में पूछे गए सवाल के जवाब में दी है.

आरटीआई की इस जानकारी में कहा गया एक बार नोटों को ईंटों में संकुचित कर दिए जाने के बाद टेंडरिंग प्रक्रिया के जरिए कटे-फटे नोटों का निपटान कराया जाएगा. भारतीय रिजर्व बैंक ने बताया कि वह इन नोटों को रीसाइकल नही करता है. देशभर में इन पुराने नोटों के वेरिफिकेशन के लिए लगभग 59 करेंसी वेरिफिकेशन एंड प्रोसेसिंग मशीनों का इस वक्त इस्तेमाल किया जा रहा है.