RJD के बिहार बंद में लगा है शरद यादव और उनकी टीम का पोस्टर, क्या है मतलब

पटना के डाक बंगला चौराहा पर लगा है पोस्टर

लाइव सिटीज डेस्कः नीतीश सरकार के बालू और गुट्टी नीति के विरोध में आज राजद का बिहार बंद है. तकरीबन सभी जिलों में बवाल मचा हुआ है. हंगामा हो रहा है. राजद समर्थक सड़क पर हैं. आगजनी की जा रही है. बिहार समेत देश की मीडिया की नजर इस आरजेडी के बिहार बंद की कवरेज में लगी हुई है. इसी बीच राजधानी पटना के डाक बंगला चौराहा पर एक पोस्टर लगाया गया है. यह पोस्टर शरद गुट के शरद वाहिनी की तरफ से लगाया गया है. लेकिन सवाल यह पैदा होता है कि आखिर राजद के इस बिहार बंद में शरद गुट के इस पोस्टर के क्या हैं मायने.

पटना में लगा पोस्टर

जरा ध्यान से देखिए इस पोस्टर को. साफ-साफ लिखा गया है नीतीश सरकार की जन विरोधी बालू, गिट्टी नीति के खिलाफ बिहार बंद. इस पोस्टर में जदयू से बागी शरद यादव, शरद गुट के रमई राम और साथ ही कई बड़े नेता दिख रहे हैं. राजधानी पटना की सड़कों पर लगाए गए इस पोस्टर को बड़े ही चाव से देख रहे हैं. गुजरते राहगीरों की निगाहें जरूर टिक रही हैं इसपर.



मालूम हो कि बिहार सरकार की खनन नीति के विरोध में राजद ने बिहार बंद करने का आह्ववान किया है. आज गुरुवार को सुबह-सुबह कई जिलों से बंद की खबरें आनी शुरु हो गई है. शेखपुरा में राजद कार्यकर्ताओ ने किऊल-गया पैसेंजर ट्रेन को घंटों रोके रखा. दूसरी तरफ सड़क यातायात को भी प्रभावित किया गया. प्रदर्शनकारी राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रहे हैं. राजद कार्यकर्ताओ ने पटना गया रेलखंड पर जहानाबाद स्टेशन के समीप ट्रैक पर आगजनी कर जनशताब्दी ट्रेन को रोकने के साथ साथ एनएच को भी जाम कर दिया है.

बालू को लेकर राजद के बंद का असर मनेर में सुबह 6 बजे से ही दिखने लगा है. विधायक भाई वीरेंद्र की अध्यक्षता में आरजेडी समर्थक सड़क पर उतर गए हैं और आगजनी कर एनएच-30 को जाम कर दिया है. बिहार सरकार द्वारा नई खनन नीति वापस लेने की घोषणा के बाद भी राजद ने गुरुवार को बिहार बंद का एलान किया है. पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने कहा कि पुरानी नियमावली से बालू की बिक्री की घोषणा आधी अधूरी है. सीएम नीतीश कुमार को माफी मांगनी चाहिए. गलत बालू नीति के कारण बिहार की जनता पिछने कई महीनों से परेशान हैं.