आ गया UGC का फरमान, यूनिवर्सिटी में अब रिटायर्ड प्रोफेसर नहीं करा सकेंगे…

लाइव सिटीज डेस्कः रिटायर्ड प्रोफेसर के मार्गदर्शन में अब पटना विश्वविद्यालय के भी छात्र-छात्रएं पीएचडी नहीं कर पाएंगी. विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने सभी विश्वविद्यालयों को पूर्व में ही निर्देश दिया था कि सेवानिवृत्त प्रोफेसर पीएचडी करने वाले शोधार्थियों के गाइड नहीं बनेंगे. इसमें संशोधन के लिए पटना विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. रासबिहारी प्रसाद सिंह ने यूजीसी को पत्र लिखा था, जिसमें कहा गया था कि सेवानिवृत्त प्रोफेसरों के पास अनुभव काफी होता है. इच्छुक प्रोफेसर का सदुपयोग पीएचडी गाइड के रूप में लिया जा सकता है. इनके पास बच्चों को गाइड करने का समय भी पर्याप्त होगा.



इस संबंध में यूजीसी ने पत्र के माध्यम से विश्वविद्यालय को आगाह किया है कि किसी भी स्थिति में पीएचडी करने वाले शोधार्थियों का गाइड सेवानिवृत्त प्रोफेसर नहीं हो सकते हैं. पटना विश्वविद्यालय में निर्धारित पद से एक तिहाई भी प्रोफेसर नहीं होने के कारण नेट और जीआरएफ वाले विद्यार्थियों को भी पीएचडी के लिए भटकना पड़ रहा है. नेट क्वालीफाई अभिषेक सुमन ने बताया कि चार साल पहले भूगोल से नेट किया है. लेकिन, पीएचडी के लिए उसका सिनॉप्सिस स्वीकार ही नहीं किया जा रहा है. डीएम अंकल ने बच्चों को दी बड़ी राहत, अब इस डेट तक पटना में बंद रहेंगे सभी स्कूल

उधर पटना विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव को लेकर जारी अधिनियम में उम्र को लेकर ऊहापोह की स्थिति बन गई है. इसे लेकर शुक्रवार को ‘दिशा’ छात्र संगठन ने प्रेसवार्ता कर कहा कि वेबसाइट पर जारी अधिनियम के पैरा सात में कहा गया है कि किसी विद्यार्थी के पहले नामांकन को पांच साल से अधिक हो गए हैं तो वह चुनाव के लिए नामांकन नहीं कर सकता है. जबकि पैरा 10 में कहा गया है कि पीएचडी के छात्र भी उम्मीदवार बन सकते हैं और उनकी अधिकतम आयु 28 साल होनी चाहिए.

पटना विश्वविद्यालय में किसी छात्र ने स्नातक और परास्नातक की डिग्री ली है और अभी शोध में नामांकन ले चुका है तो ऐसी स्थिति में अधिनियम के अनुसार पटना विश्वविद्यालय का छात्र चुनाव में उम्मीदवार का पात्र नहीं होगा. विश्वविद्यालय द्वारा जारी अधिनियम के अनुसार चुनाव में उम्मीदवार बनने के लिए यूजी (स्नातक) के विद्यार्थी की अधिकतम आयु 22, पीजी के लिए 25, एलएलबी के लिए 25, एलएलएम के लिए 27, बीएड के लिए 25 तथा पीएचडी के लिए 28 साल निर्धारित है.