देखेगा बिहार : कैबिनेट की बैठक में तेजस्‍वी यादव जाते हैं कि नहीं?

पटना : बिहार के सियासी संकट में आज मंगलवार 18 जुलाई का दिन बड़ा है . सभी जानते हैं कि मुख्‍य मंत्री नीतीश कुमार के मन को जान पाना बहुत कठिन है . पर,यह सबों को पता है कि जो ठान लेते हैं,कर देते हैं . समय भले लगे . ऐसे में,आज देखा जाना डिप्‍टी सीएम तेजस्‍वी यादव को है .

अंतिम निर्णय करने में नीतीश कुमार की देरी के पीछे की राजनीतिक वजहें हैं . यह माना जाना कतई ठीक नहीं है कि कोई सुलह-सपाटा हो गया है . संभावना भी नहीं है . कारण सिर्फ इतना है कि नीतीश कुमार अपने आखिरी फैसले से राजद को ‘शहीदी पार्टी’ नहीं बनाना चाहते हैं . लालू प्रसाद ने तेजस्‍वी यादव के इस्‍तीफे से दो टूक इंकार कर स्‍पष्‍ट कर दिया है कि बर्खास्‍तगी हुई तो वे जनता को बतायेंगे .

दूसरी ओर,भाजपा के साथ बढ़ते कदमों की बात करें,तो अनिर्णय की स्थिति के पीछे 2019 के लोक सभा चुनाव में बिहार की सीटें हैं . बिहार में लोक सभा और विधान सभा का चुनाव साथ हो सकता है . मान सकते हैं,नीतीश कुमार की जिद के कारण विधान सभा चुनाव पहले भी हो जाए . पर,लोक सभा चुनाव में किसी नये सहयोगी दल को बिहार में लोक सभा की बहुत सीटें दे पाना भाजपा के लिए संभव नहीं दिख रहा है . विधान सभा के चुनाव में सीटों के बंटवारे के पुराने फार्मूले पर चलने में भी कोई विशेष कठिनाई नहीं है .

सियासी संकट के अनिर्णय की स्थिति में आज मंगलवार का दिन इसलिए महत्‍वपूर्ण हो गया है कि शाम को बिहार कैबिनेट की बैठक है . देखना होगा कि इसमें शामिल होने को डिप्‍टी सीएम तेजस्‍वी यादव जाते हैं कि नहीं . पहुंच जाने पर मुख्‍य मंत्री नीतीश कुमार का रिस्‍पांस क्‍या रहता है . तेजस्‍वी के अलावा लालू प्रसाद के बड़े बेटे व सूबे के हेल्‍थ मिनिस्‍टर तेज प्रताप यादव और राजद के अन्‍य मंत्रियों की उपस्थिति को भी नोटिस किया जाएगा .

लालू प्रसाद और नीतीश कुमार में बातचीत बंद है . तेजस्‍वी यादव से भी नीतीश कुमार की कोई बातचीत नहीं हुई है . बातचीत शुरु कराने की कोशिश में बिहार प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्‍यक्ष व सूबे के शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी लगातार लगे हैं,पर सफलता नहीं मिल पा रही है . तेजस्‍वी यादव ने आफिस जाना भी बंद कर रखा है . जानकार कह रहे हैं कि तेजस्‍वी कैबिनेट की बैठक में नहीं गये,तो संभव है कि मामला कुछ दिनों तक और खिंचे,लेकिन चले गये,तो नीतीश कुमार को अंतिम निर्णय लेने में जल्‍दी का मार्ग तय करना होगा.

यह भी पढ़ें-  CM नीतीश के साथ बच्चे अच्छे नहीं लगते, इस्तीफा दें तेजस्वी वरना होंगे बर्खास्त

तेजस्वी का तंज : सुशील मोदी नकारात्मक राजनीति करते हैं, मेरा इस्तीफा मीडिया की देन