अगर गुजरात-हिमाचल में BJP को मिली जीत, तो बिहार में चमकेंगे कई नेताओं के सितारे

लाइव सिटीज डेस्क : चुनाव की गिनती हिमाचल प्रदेश और गुजरात में चल रही है. लेकिन हलचल बिहार में भी है. कारण यह है कि इन दोनों प्रदेशों में बिहार के नेताओं की अहम् भूमिका रही है. अगर भाजपा दोनों प्रदेशों में जीतती है तो तालियां बिहार में भी बजेगी. और इन नेताओं की राष्ट्रीय स्तर पर पूछ भी बढ़ेगी. हिमाचल प्रदेश के प्रभारी और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय, राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी संजय मयूख और भाजपा युवा मोर्चा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राजेश वर्मा समेत आधा दर्जन ऐसे बिहारी नेता हैं, जिन्होंने इस चुनाव में अहम भूमिका निभाई है. जीत होती है, तो ऐसे नेताओं का नंबर बढ़ेगा.

mangal
मंगल पांडेय

अभी बिहार भाजपा के दो नेताओं को संगठन के स्तर पर पार्टी ने राष्ट्रीय स्तर की जिम्मेदारी दे रखी है. उनमें से एक पूर्व प्रदेश अध्यक्ष मंगल पांडेय हैं, जो अभी बिहार सरकार में स्वास्थ्य मंत्री हैं. मंगल को हिमाचल प्रदेश में बतौर प्रभारी चुनावी नैया पार लगाने की जिम्मेदारी मिली थी। दूसरे नेता हैं प्रदेश प्रवक्ता रह चुके योगेंद्र पासवान. पासवान केंद्रीय अनुसूचित जाति-जनजाति आयोग में सदस्य बनाए जा चुके हैं.



राजेश वर्मा

केंद्रीय मंत्री के पद से मुक्त होने के बाद राजीव प्रताप रूडी समेत कई ऐसे बिहारी नेता हैं, जिन्होंने संगठन में दमदार भूमिका हासिल करने की उम्मीद में गुजरात और हिमाचल प्रदेश महीनों मेहनत की. बिहार भाजपा के पूर्व अध्यक्ष मंगल पांडेय की टीम में शामिल रहे दर्जनों नेता भी सक्रिय रहे हैं. फिलहाल भाजपा के राष्ट्रीय संगठन में बिहार से पिछड़ी जाति का कोई नुमाइंदा नहीं है. ब्राह्मïण, राजपूत और दलित बिरादरी का भी कोई प्रतिनिधित्व नहीं है. दो नेता रेणु देवी और रजनीश कुमार ही शाह की टीम में बिहार की नुमाइंदगी कर रहे हैं.