योगी आदित्यनाथ की टीम में बिहारी ऑफिसर्स का जलवा

लाइव सिटीज डेस्क : उत्तर प्रदेश में नई सरकार के गठन के बाद से कई प्रशासनिक अधिकारियों का फेरबदल हुआ है. योगी आदित्यनाथ ने चुन-चुन कर बेस्ट ऑफिसर्स को अपनी टीम में शामिल किया है. सबसे बड़ी बात यह है कि योगी ने बेस्ट ऑफिसर्स की टीम में कई बिहारियों को जगह दी है. कहा जाता है कि योगी आदित्यनाथ बिहारी ऑफिसर्स को भरोसे मंद और काबिल मानते हैं. 

ऐसी ही कुछ सूची उन बिहारी ऑफिसर्स की है जो योगी आदित्यनाथ की टीम में अहम भूमिका निभा रहे हैं.

उन्होंने सबसे पहले अपना सचिव ही बिहार के मूल निवासी मृत्युंजय नारायण को बनाया. वहीं पटना के ही आदित्य मिश्रा को प्रदेश की कानून व्यवस्था संभालने की जिम्मेदारी सौंप दी.  सीएम ने प्रदेश की राजधानी लखनऊ के एसएसपी की जिम्मेदारी बिहार के बेगूसराय के रहने वाले दीपक कुमार को दी है. 

सरकार की आंख-नाक-कान कहे जाने वाले अभिसूचना विभाग का मुखिया बिहार के सहरसा निवासी 1987 बैच के आइपीएस भवेश सिंह को बनाया. पुलिस को प्रशिक्षित करने की जिम्मेदारी भी 1984बैच के आइपीएस अफसर मुंगेर के ही आलोक प्रसाद को दी गई है.

पुलिस का तकनीकी पहलू देखने की जिम्मेदारी बिहार के भोजपुर के रहनेवाले 1992बैच के आइपीएस आशुतोष पांडेय को मिली है. प्रदेश में ट्रैफिक महकमा संभालने की जिम्मेदारी बिहार के सिवान के प्रशांत कुमार को दी गई है.

जब उत्तर प्रदेश में अखिलेश सरकार थी तब भी बिहारियों का जलवा कम नहीं था. उस समय बिहार के मुंगेर जिले के रहने वाले जावेद अहमद को डीजीपी बनाया गया था. हालांकि यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने जावेद अहमद को डीजीपी पद से हटाए जाने के बाद भी डीजी पीएसी जैसे अहम पद पर नियुक्त किया है. जो सिविल पुलिस के बाद प्रदेश की सबसे बड़ी फोर्स मानी जाती है.  जावेद अहमद 1984बैच के आइपीएस अधिकारी  हैं.

यह भी पढ़ें-  ब्रांड बिहार : बेगूसराय के दीपक बने लखनऊ के एसएसपी