सच्चिदानंद राय मिले आनंद किशोर से, फैसले से लाभ मिलेगा हजारों छात्रों को

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्‍क : भारतीय जनता पार्टी के विधान पार्षद सच्चिदानंद राय ने आज 28 मार्च को बिहार स्‍कूल एग्‍जामिनेशन बोर्ड के चेयरमैन आनंद किशोर से पटना में मुलाकात की . मसला था, 203 इंटर स्‍कूल-कालेजों की संबद्धता समाप्‍त करने का.  इस कारण बिहार के हजारों छात्रों का भविष्‍य अधर में लटका जा रहा था . राय ने चेयरमैन आनंद किशोर से समस्‍या का निराकरण छात्र और कालेज हित में करने की मांग की . समस्‍या का समाधान अब निकलता दिख रहा है .

सच्चिदानंद राय ने चेयरमैन से कहा कि 203 इंटर कालेजों की संबद्धता समाप्‍त करने के पीछे जो भी प्रशासनिक कारण रहे हों, एग्‍जामिनेशन बोर्ड को देखना चाहिए कि इसका प्रभाव छात्रों पर तुरंत कितना पड़ेगा . वैकल्पिक व्‍यवस्‍थाएं क्‍या हैं, जिससे छात्रों को परेशानी न हो . सर्वाधिक परेशानी संबद्ध क्षेत्रों के मैट्रिक पास करने वाले विद्यार्थियों को हो रही है . वे कहां दाखिला लेंगे .

चेयरमैन आनंद किशोर ने समस्‍या को माना . कहा कि इसका समाधान जरुर किया जाना चाहिए . उन्‍होंने तुरंत एक्‍शन लिया . बोर्ड के अधिकारियों से कहा कि वे आवश्‍यक विज्ञप्ति इस बारे में जारी करें . 3-4 महीने की समय सीमा तय हो .  ऑनलाइन एप्लीकेशन प्राप्त किये जाएंगे. फिर जो आवेदन प्राप्त होंगे, महीने भर में जांच पूरी कर अहर्ता पूर्ण करने वाले कॉलेजों को सम्बद्धता दे दी जाएगी. दिल्ली के लिए निकले लालू प्रसाद, RIMS से टाटा सूमो से भेजे गए रेलवे स्टेशन 

जिन 203 कालेजों की संबद्धता समाप्‍त की गई है, उनसे कहा जाए कि वे अपने को निर्धारित अवधि के भीतर ठीक कर लें . मतलब जिन त्रुटियों/कमी के कारण संबद्धता समाप्‍त की गई है, उसे ठीक कर लें . तय समय सीमा में ऐसा कर लेंगे तो बिहार स्‍कूल एग्‍जामिनेशन बोर्ड अपने फैसले पर पुनर्विचार कर लेगा . इस तरीके से छात्रों और साथ में कालेजों की उत्‍पन्‍न समस्‍या का समाधान भी हो जाएगा .

देखिये वीडियो और जानिए बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के महासचिव शत्रुघ्न प्रसाद सिंह से, समान काम के लिए समान वेतन मामले में सुप्रीम कोर्ट में क्या हुआ और अब इंतजार कितना…

विधान पार्षद राय ने तुरंत निर्णय करने को चेयरमैन आनंद किशोर के प्रति आभार व्‍यक्‍त किया . उन्‍होंने कहा कि सही समय पर समस्‍या को सामने लाया जाए तो हल जरुर निकलता है . आगे भी इस तरीके का प्रयास वे जिम्‍मेवार प्रतिनिधि के रुप में करते रहेंगे . सरकारी स्कूलों में बच्चे कर रहे रिक्वेस्ट- प्लीज सर पैसे भेजिए हमें पढ़ना है, पढ़िए पूरा माजरा 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*