लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्कः पटना यूनिवर्सिटी छात्र संघ चुनाव से पहले तेज राजनीतिक गतिविधियां देखने को मिल रही हैं. जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर की गिरफ्तारी की मांग को लेकर बीजेपी के नेता धरने पर बैठे. पीरबहोर थाना परिसर में जमकर नारेबाजी हुई. इस दौरान बीजेपी विधायक अरुण सिन्हा ने कहा कि अगर अन्याय होगा तो हम अावाज जरूर उठाएंगे. अरुण सिन्हा के साथ ही साथ बीजेपी नेता नितिन नवीन भी धरने पर बैठे. इस दौरान भारी संख्या में ABVP कार्यकर्ता भी शामिल थे.

जदयू के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष प्रशांत किशोर के खिलाफ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) खड़ी हो गई है. बताया जा रहा है कि सोमवार की रात भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) के कार्यकर्ताओं ने उनपर पथराव कर दिया. हमले में वे बाल-बाल बचे, हालांकि उनकी गाड़ी काे क्षति पहुंची. इसके बाद भाजयुमो के प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल से मिलकर प्रशांत किशोर के खिलाफ पटना विवि छात्रसंघ चुनाव में आचार संहिता के उल्‍लंघन की शिकायत की.

कल हो रहे पटना विश्‍वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव को लेकर माहौल गर्म है. आचार संहिता भी लागू है. इसी बीच प्रशांत किशोर पटना विश्‍वविद्यालय के कुलपति से मिलने उनके आवास पर गए. इसकी जानकारी मिलने पर छात्रों ने कुलपति आवास को घेर लिया. उन्‍होंने आरोप लगाया कि प्रशांत किशोर पटना विवि के छात्रसंघ चुनाव में छात्र जदयू के पक्ष में बात करने कुलपति के पास गए थे.

प्रशांत किशोर के वहां होने की जानकारी होते ही विभिन्‍न छात्र संगठनों ने कुलपति आवास को घेर लिया. जिस वक्त पटना विवि के छात्रसंघ चुनाव की तैयारियों की समीक्षा के लिए पीरबहोर थाने में जिलाधिकारी की अध्यक्षता में उच्चाधिकारियों व छात्र संगठनों के नेताओं की बैठक हो रही थी, उसी समय जदयू के छात्र संगठन को छोड़कर बाकी सभी छात्र संगठन कुलपति आवास के बाहर हंगामा व नारेबाजी कर रहे थे.