पटना सिटी एसपी विनय तिवारी को जबरन क्वारंटाइन करने पर BMC ने दी सफाई, कहा- कोरोना दिशा- निर्देशों का किया गया पालन

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच करने के लिए मुंबई पहुंचे पटना के सिटी एसपी विनय तिवारी को क्वारंटाइन कर दिया गया है. बताया जा रहा है कि पटना सिटी एसपी विनय तिवारी को मुंबई में आईपीएस मेस में जगह नहीं दी गई, जिसके बाद उन्होंने निजी तौर पर अपने रहने की व्यवस्था की. इसके बाद बीएमसी के अफसरों ने विनय तिवारी से उनकी रहने की जगह पूछी और उन्हें क्वारंटाइन कर दिया.

बीएमसी ने सफाई में कहा है कि उन्होंने सिर्फ केंद्र सरकार की गाइडलाइन्स का पालन किया है. क्योंकि उन्हें सात दिन से अधिक वक्त तक मुंबई में रुकना है, इसलिए ऐसा किया गया है. विनय तिवारी सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच करने के लिए कल मुंबई पहुंचे हैं, लेकिन उनको क्वॉरेंटाइन के नाम पर जांच से रोका जा रहा है.



इससे पहले बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने रविवार देर रात ट्विट कर बताया कि आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी बिहार पुलिस टीम का नेतृत्व करने के लिए आधिकारिक ड्यूटी पर आज पटना से मुंबई पहुंचे लेकिन बीएमसी अधिकारियों ने जबरन उन्हें क्वारंटाइन कर दिया. अनुरोध के बावजूद उन्हें आईपीएस मेस में आवास प्रदान नहीं किया गया था जिसके बाद वह गोरेगांव (मुंबई) के एक गेस्ट हाउस में ठहरे हुए थे.

बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने देर रात इस मामले पर ट्वीट किया है. उन्होंने सिटी एसपी के हाथ पर लगे होम क्वॉरेंटाइन की मुहर की तस्वीर और वीडियो भी ट्वीट किया है. गुप्तेश्वर पांडेय ने ट्वीटर पर लिखा है “IPS अधिकारी विनय तिवारी अपने ऑफिशियल ड्यूटी पर पटना से मुंबई पहुंचे थे. उन्हें अपनी टीम का लीड करना था. लेकिन उन्हें रात के 11 बजे जबरन क्वॉरेंटाइन कर दिया गया है. उन्होंने मुंबई के आईपीएस मेस में रहने के लिए आग्रह किया था लेकिन जगह नहीं दी गयी. वे गोरेगांव के एक गेस्ट हाउस में रह रहे थे. अब वे वहां से बाहर नहीं निकल सकते.”