16 दिसंबर को होगी BPSC 64वीं पीटी की परीक्षा, इस बार 1200 पदों पर है बहाली

BPSC-GATE

लाइव सिटीज डेस्क : BPSC अपने एग्जाम सिस्टम को लगातार दुरुस्त कर रहा है. कभी वर्षों तक परीक्षा का इंतजार कराने वाले BPSC ने अब ऑन टाइम एग्जाम सिस्टम पर फोकस किया है. अभी पिछले महीने ही BPSC 64वीं पीटी का फॉर्म डाला गया था. फटाफट सभी कामों को निपटा रहे BPSC ने अब इसके एग्जाम तारीख की भी घोषणा कर दी है. BPSC ने परीक्षा की संभावित तिथि 16 दिसंबर तय की है. काफी समय बाद BPSC ने बड़ी संख्या में बहाली की घोषणा की है. बता दें कि 64वीं की परीक्षा के लिए आवेदन भरने की अंतिम तिथि 10 सितंबर थी.

आयोग के सचिव केशव रंजन प्रसाद ने बताया कि लगभग 12 सौ पदों पर नियुक्ति के लिए आवेदन मांगा गया था. इसमें सबसे अधिक राजस्व पदाधिकारी या समकक्ष ग्रेड के पदाधिकारी के लिए 571 पदों के लिए रिक्तियां हैं. वहीं, आपूर्ति निरीक्षक के लिए 223 पदों की रिक्तियां है. प्रखंड कल्याण पदाधिकारी के 122 और प्रखंड पंचायती राज पदाधिकारी के लिए 133 पदों पर रिक्तियां दिखायी गयी है। ग्रामीण विकास पदाधिकारी 51, सहायक निबंधक सहयोग समितियां 41 पदों और बिहार पुलिस सेवा 40 पदों के लिए आवेदन लिए जाएंगे। वाणिज्य कर पदाधिकारी 10, सहायक निदेशक सामाजिक सुरक्षा के 4, अवर निरीक्षक के 6 और प्रर्वतन अवर निरीक्षक 29, जिला अंकेक्षण पदाधिकारी के 5 पदों की नियुक्तियों के लिए आवेदन लिए जाएंगे.

63वीं BPSC पीटी का रिजल्ट जारी, 4257 कैंडिडेट मुख्य परीक्षा के लिए हुए सेलेक्ट

आपको बता दें कि लंबे समय के बाद BPSC ने बड़ी संख्या में बहाली की घोषणा की है. इसके चलते आयोग ने करीब 5 लाख छात्रों के हिसाब से तैयारी करने का निर्देश दिया है. इस बार बड़ी संख्या में अभ्यर्थियों के शामिल होने के कारण आयोग ने डीएम को निर्देश दिया है कि एक बेंच पर दो अभ्यर्थी बैठेंगे. करीब 5 लाख छात्रों के हिसाब से तैयारी आदेश दिया गया है. साथ ही डीएम से 25 सितंबर तक मांगी गई जानकारी देने को कहा.

बता दें कि सामान्य प्रशासन विभाग की ओर से 2018 की रिक्तियां विभागों से मांगी गयी थी। आयोग अपना परीक्षा कैलेंडर में सुधार के लिए पहले से ही विभागों से रिक्तियां मांग चुका था ताकि समय पर आवेदन की प्रक्रिया शुरू की जाए। इसके बाद कम से कम समय में पीटी लिया जा सके. परीक्षा पूर्व से निर्धारित पैटर्न पर होगी. उम्मीद है कि 64वीं पीटी नवम्बर अंत या दिसम्बर के प्रथम सप्ताह में लिया जाएगा.

वहीं परीक्षा विशेषज्ञ डॉ. एम रहमान ने बताया कि आयोग परीक्षा कैलेंडर सुधार की ओर अग्रसर हो गया है. यह बिहार के छात्रों के लिए बहुत जरूरी था. इस फैसले से राज्य के लाखों छात्रों को फायदा होगा. अब छात्र नियमित तैयारी में जुट जाएंगे.उनके लिए यह बहुत बड़ा अवसर है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*