ब्रजेश पांडेय मुश्किल में, कोर्ट से वारंट का अनुरोध

पटना : कांग्रेस के पूर्व मंत्री की बेटी प्रिया (बदला नाम) के यौन शोषण के मामले में फंसे ब्रजेश पांडेय की मुश्किलें अब बढ़ गई हैं . सीआईडी में कांड की अनुंसधानकर्ता कुसुम कुमारी ने कांग्रेस नेता ब्रजेश पांडेय की अरेस्टिंग के लिए कोर्ट से वारंट जारी करने का अनुरोध किया है . साथ में,निखिल प्रियदर्शी के मित्र संजीत शर्मा को गिरफ्तार करने को भी कोर्ट से वारंट की मांग की गई है . संजीत शर्मा कांड का प्राथमिकी अभियुक्‍त है,जबकि कांग्रेस नेता ब्रजेश पांडेय का नाम अनुसंधान के क्रम में आया था . निखिल प्रियदर्शी अभी अपने पिता और भाई के साथ जेल में है .  

कोर्ट ने वारंट के अनुरोध पर कोई निर्णय नहीं लिया है . ब्रजेश पांडेय ने मामले को पटना हाई कोर्ट में चुनौती दे रखी है . ब्रजेश पांडेय की अग्रिम जमानत याचिका पॉक्‍सो कोर्ट ने पहले खारिज कर दी थी . पर ,प्रिया मामले में डेवलपमेंट यह भी है कि अब सुनवाई एससी-एसटी कोर्ट में ही होगी . पॉक्‍सो कोर्ट में सुनवाई की प्रिया की अर्जी कोर्ट से खारिज हो चुकी है . 

वैसे,पीडि़ता प्रिया की मुश्किलें भी इधर बढ़ी हैं . पूछताछ हो सकती है . दरअसल,प्रिया ने घटना के वक्‍त अपनी उम्र 18 वर्ष से कम बताई थी . इसके लिए उसने सीबीएसई का सर्टिफिकेट दिया था . पर बाद में,यह बात सामने आई कि सीबीएसई के दो दस्‍तावेज पर अलग-अलग जन्‍म-तिथि दर्ज है . इसमें एक के अनुसार वह बालिग है और दूसरे के मुताबिक नाबालिग . इस मुद्दे पर जांच एजेंसी सीआईडी में भी काफी विवाद हुआ है . मुजफ्फरपुर में प्रिया का दाखिला जांच के घेरे में फर्जीवाड़े की हद तक जा पहुंचा है .

ब्रजेश पांडेय मामले में अनुसंधानकर्ता की ओर से गिरफ्तारी वारंट की मांग का अनुरोध यह दर्शाता है कि जांच के क्रम में उनके खिलाफ भी साक्ष्‍य अब सीआईडी को मिल गया है . पहले कहा जा रहा था कि कोई ठोस सबूत नहीं है .

यह भी पढ़ें-  योगी आदित्यनाथ की टीम में बिहारी ऑफिसर्स का जलवा
सुमो अटैक : प्रेमचंद गुप्ता ने भी सांसद व मंत्री पद के लिए लालू को चुकाई कीमत