Breaking : राबड़ी देवी, तेजस्वी और तेजप्रताप यादव की संपत्ति जब्त

राबड़ी देवी, तेजस्वी यादव, तेजप्रताप यादव (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज डेस्क : दिल्ली से बहुत बड़ी खबर आ रही है. खबर सीधे राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद की फैमिली से जुड़ी है. इन पर ईडी की बड़ी कारवाई हुई है. लालू प्रसाद की पत्नी व बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव की संपत्ति कुर्क की गई है.  मामला लारा प्रोजेक्ट से जुड़ा है. बता दें कि अभी कुछ ही दिनों पहले राबड़ी देवी से ईडी की टीम ने पटना में पूछताछ की थी.

मिल रही ख़बरों के मुताबिक लारा प्रोजेक्ट में चल रही जांच के बाद ईडी ने यह एक्शन लिया है. जिसके तहत, इसमें तेजस्वी यादव, तेजप्रताप यादव और उनकी मां राबड़ी देवी की संपत्ति को ईडी ने कुर्क किया है. बताया जा रहा है कि कुल 3 एकड़ की संपत्ति जब्त की गई है. जिसका सर्किल रेट करीब 44.7 करोड़ है.  इस खबर के बाद से हलचल मची हुई है. माना जा रहा है कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के इन सदस्यों की मुश्किलें अभी और भी बढ़ सकती हैं.



प्रवर्तन निदेशालय

बता दें कि इन दिनों रेलवे टेंडर घोटाला की जांच जोरो पर चल रही है. लगातार तेजस्वी यादव और राबड़ी देवी को पूछताछ के लिए बुलाया जा रहा है. हाल ही में दिल्ली आने में असमर्थ राबड़ी देवी से पूछताछ करने की लिए ईडी की ही टीम पटना आई थी. जहां उनसे करीब 7 घंटे तक पूछताछ की गई थी. पटना में राबड़ी देवी से पूछताछ ख़त्म, 7 घंटे तक 7 ऑफिसर्स ने पूछे 55 सवाल

क्या है मामला

वर्ष 2006 में लालू केंद्र की यूपीए सरकार में रेल मंत्री थे. आरोप है कि रेलवे के पुरी एवं रांची स्थित होटलों को निविदा प्रक्रिया में हेर-फेर करके कोचर बंधुओं को लीज पर दे दिए. प्रक्रिया आइआरसीटीसी के तत्कालीन एमडी पीके गोयल ने पूरी की. इसका सौदा पहले ही पूरा कर लिया गया.

25 फरवरी 2005 को कोचर ने पटना के बेली रोड स्थित तीन एकड़ जमीन सरला गुप्ता की कंपनी डिलाइट मार्केटिंग को कम कीमत में बेची, जबकि बाजार में उसकी कीमत 1.93 करोड़ रुपये थी. इसे कृषि भूमि बताकर सर्कल रेट से काफी कम पर बेचा गया. बाद में 2010 से 2014 के बीच यह बेनामी संपत्ति लालू परिवार की कंपनी लारा प्रोजेक्ट को सिर्फ 65 लाख में दे दी गई, जबकि सर्कल रेट के मुताबिक इसकी कीमत करीब 32 करोड़ थी और बाजार मूल्य 94 करोड़ रुपये.