‘मुंगेरीलाल के हसीन सपने देख रहे हैं भूपेन्द्र यादव’ आरजेडी में टूट के दावों पर भाई बिरेन्द्र ने किया पलटवार

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क : बीजेपी नेता भूपेन्द्र यादव के बयान पर आरजेडी ने कड़ा पलटवार किया है. पार्टी नेता व विधायक भाई बिरेन्द्र ने कहा कि मुंगेरीलाल के हसीन सपने और दिन में तारा देखने की बात बीजेपी बिहार प्रभारी कर रहे हैं. राजद में टूट की बात दिन में सपने देखने जैसा है . आरजेडी जमीनी पार्टी है, इसमें शामिल लोग लालू यादव के विचारों से प्रभावित और जमीन से जुड़े है.

भाई बिरेन्द्र ने कहा कि भूपेन्द्र यादव का बिहार में कितना जनाधार है यह सभी को पता है. बिना जनाधार वाले लोग ही इस तरह की बातें करते हैं. वो 19 लाख लोगों को रोजगार देने की बात करें, प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जानकारी दें क्या हुआ बीजेपी के इस घोषणा का. लेकिन इन सारे वादों को पूरा करने में असफल रही बीजेपी अब इस तरह की बातें कर लोगों को मुख्य मुद्दा से ध्यान भटकाना चाहती है. लेकिन हम लोग ऐसा नहीं होने देंगे.



वहीं खरमास बाद आरजेडी में बड़ी टूट के भूपेन्द्र यादव के दावों पर पलटवार करते हुए आरजेडी प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि वो राजद को नही नीतीश सरकार टूटने से बचाने की चिंता करें. राजद को तोड़ने की गीदड़ भभकी ना दें. भूपेन्द्र यादव को चुनौती देते हुए उन्होंने कहा कि बीजेपी बिहार सरकार को बचा सकती है तो बचा ले.

उधर जेडीयू के कद्दावर नेता व सांसद ललन सिंह ने बीजेपी नेता भूपेन्द्र यादव के बयान का समर्थन करते हुए कहा कि बीजेपी नेता ने जो बातें कही है वो बिलकुल सहीं है. भूपेन्द्र यादव जिस दिन चाह लेंगे उस दिन पूरी की पूरी आरजेडी बीजेपी में मर्ज कर जाएगा. आरजेडी में कोई नेता नहीं है. जिस नेता को किसी प्रकार का ज्ञान नहीं है उसके किसी सवास का क्या जवाब दिया जा सकता है.

ललन सिंह ने तेजस्वी के पहली कैबिनेट में 10 लाख सरकारी नौकरी देने के चुनावी वादे का जिक्र करते हुए कहा कि कोई भी सरकार किसी को सरकारी नौकरी नहीं देती है. यह बात सभी को मालूम है. इसके बावजूद भी वो वादा कर रहे थे कि मेरी सरकार पहली कैबिनेट पहली बैठक में 10 लाख सरकारी नौकरी देंगे. ऐसे अज्ञानी व्यक्ति के सवाल का जवाब नहीं दिया जा सकता है.

बता दें कि राजगीर में आयोजित बीजेपी के प्रशिक्षण शिविर में भूपेन्द्र यादव ने कहा कि आरजेडी वाले तरह तरह के बयान देते रहते हैं. मैं उनसे निवेदन करता हूं कि खरमास बाद वो अपनी पार्टी को टूटने से बचा ले वहीं काफी है. बिहार में सही समय पर कैबिनेट का विस्तार होगा. इसमें किसी को संशय नहीं होना चाहिए.