पहले यात्रियों की शिकायत थी, अब CAG ने भी माना- रेलवे का खाना खाने योग्य नहीं

लाइव सिटीज डेस्क :  ट्रेन में सफ़र करने वाले अक्सर खराब खाने को लेकर शिकायत करते रहते हैं. एक तो खराब खाना ऊपर से काफी महंगा भी. यह तो सिर्फ यात्रियों की शिकायत थी. लेकिन अब CAG ने भी रेलवे के खाने को स्‍वास्‍थ्‍य के लिए हानिकारक बता दिया है. भारतीय रेलवे की कैटरिंग सर्विस पर सीएजी की ऑडिट रिपोर्ट आज संसद में रखी गई. इसमें बताया गया है कि रेलवे में मिलने वाला खाना आदमियों के खाने लायक नहीं है. 

रिपोर्ट में यह कहा गया है कि, ट्रेनों और स्टेशनों पर जो भी चीजें परोसी जा रही हैं वो बेहद खराब हैं और प्रदूषित हैं. यह भी कहा गया है कि जो चीज्ज  डिब्बाबंद और बोतलबंद है उसके यूज करने के लिमिट पीरियड के बाद भी बेचा जा रहा है.

इसके अलावा, बिना रेलवे के परमिशन के किसी भी ब्रांड का पानी बोतल भी धड़ल्ले से बेची जा रही हैं. जांच में यह बात भी सामने आई कि रेलवे परिसरों और ट्रेनों में साफ-सफाई का बिलकुल ध्यान नहीं रखा जा रहा. रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि  ट्रेन में जो भी चीजें बिकती हैं उसका न तो बिल दिया जाता है. साथ ही फूड क्वॉलिटी के साथ भी समझौता किया जा रहा है.

सीएजी को जांच के दौरान किसी भी ट्रेन में वेटरों और कैटरिंग मैनेजरों के पास बेची जाने वाली चीजों से जुड़ा मेन्यू और रेट कार्ड नहीं मिला. रिपोर्ट में यह भी जिक्र है कि रेलवे परिसरों में ओपन मार्केट की तुलना में ज्यादा कीमत पर चीजें बेची जा रही थीं. ऑडिट रिपोर्ट में रेलवे में बार-बार बदलती कैटरिंग पॉलिसी पर सवाल उठाया गया है.

यह भी पढ़ें-  रेल यात्रा में भूल गए पहचान पत्र तो न ले टेंशन, स्मार्ट फोन है ना