लालू को राजनीतिक गतिविधियों को आगे बढ़ाने के लिए जमानत नहीं मिलनी चाहिए – CBI

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्कः बड़ी खबर मिल रही है दिल्ली से. चारा घोटाला मामले में सुप्रीम कोर्ट में राजद सुप्रीमो लालू यादव के खिलाफ हलफनामा दायर किया गया है. दरअसल, सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर किया है. इस हलफनामे में कहा गया है कि लालू अस्पताल से राजनीतिक गतिविधि संचालित कर रहे. इसी को लेकर सीबीआई की तरफ से लालू यादव की जमानत का विरोध किया गया है. अब इस मामले में सुनवाई बुधवार यानी 10 अप्रैल को होगी.

लालू यादव आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर जमानत मांग रहे है. वह अब मेडिकल आधार पर जमानत मांगकर कोर्ट को गुमराह कर रहे हैं. इस मामले पर कल सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा. सीबाआई ने कहा कि लालू को अपनी राजनीतिक गतिविधियों को आगे बढ़ाने के लिए जमानत नहीं मिलनी चाहिए.

सीबीआई की ओर से कहा गया है कि सभी दंडों की गणना संचयी रूप से की जाए तो लालू को 3.5 साल की सजा नहीं हुई है बल्कि 27.5 साल की जेल हुई है. वो जेल में न रहकर अस्पताल के विशेष वार्ड में रहते हैं. एक राज्य के सीएम के रूप में लालू की नापाक हरकत ने पूरे देश की अंतरात्मा को हिला कर रख दिया.

इस समय रांची के बिरसा मुंडा सेन्ट्रल जेल में बंद राजद प्रमुख ने झारखंड उच्च न्यायालय द्वारा 10 जनवरी को अपनी जमानत याचिका खारिज किये जाने को चुनौती दी है. 900 करोड़ रुपये से अधिक के चारा घोटाले से संबंधित तीन मामलों में प्रसाद को दोषी ठहराया गया है. ये मामले 1990 के दशक की शुरुआत में पशुपालन विभाग के कोषागार से पैसे की धोखाधड़ी करने से संबंधित थे. उस समय झारखंड बिहार का हिस्सा था.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*