‘बड़े लोगों का कुछ नहीं बिगड़ता यह सोच बदलें, आज 3 पूर्व सीएम सड़ रहे जेल में’

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार के सीएम नीतीश कुमार जहां भ्रष्टाचार मामले में जीरो टोलेरेंस की नीति रखते हैं वहीं केंद्र की मोदी सरकार भी भ्रष्टाचारियों को बख्शने के मूड में नहीं हैं. NCC कैडेट्स को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने स्पष्ट कर दिया है कि भ्रष्टाचार से लड़ाई में किसी को नहीं बख्शा जाएगा। उनका कहना था कि तीन पूर्व मुख्यमंत्री जेल में सड़ रहे हैं, क्योंकि सरकार इस मोर्चे पर कोई समझौता नहीं कर रही. पीएम ने युवाओं से भी सरकार की मुहिम से जुड़ने की अपील की है.

भले ही पीएम मोदी ने किसी का नाम नहीं लिया है. लेकिन 3 पूर्व सीएम की अगर बात करें तो. इसमें बिहार से 2 लोगों के नाम हैं. बिहार के पूर्व सीएम लालू प्रसाद और एक और पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्र जेल में बंद हैं. इन दोनो के अलावा हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला भी जेल में बंद हैं. एनसीसी कैडेट्स को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि पहले लोगों की धारणा थी कि अमीर व बड़े पद पर बैठे लोगों का कुछ नहीं बिगड़ता, लेकिन अब यह बदल रही है. उनका कहना था कि कौन कहता है कि भगवान नहीं है? कौन कहता है कि भगवान के हाथ से न्याय नहीं होता? उन्होंने अपील की कि युवा सरकार की भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम का हिस्सा बनें और देश को प्रगति के पथ पर ले जाएं.

पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्र और लालू प्रसाद

मोदी ने कहा कि वह युवाओं से कुछ मांग रहे हैं. न तो वह वोट मांग रहे हैं और न ही इसमें कोई राजनीति है. युवा सरकार की मुहिम से जुड़ें और भ्रष्टाचार के साथ कालेधन के खिलाफ छिड़ी लड़ाई में अपना योगदान दें. उन्होंने युवाओं से अपील की कि डिजीटल लेनदेन को लोकप्रिय बनाने के लिए हर व्यक्ति को इससे जोड़ें. एनसीसी कैडेट्स से कहा कि वे सौ परिवारों को इससे जोड़ें. उनका कहना था कि सरकारी धन सही जगह खर्च हो तो इससे शिक्षा का स्तर ठीक होने के अलावा बुनियादी सुविधाएं बेहतर होती हैं. गरीबों को बेहद सहायता मिलती है.

पीएम मोदी इस दौरान आधार कार्ड की महत्ता को भी बताया. उनका कहना था कि सरकार ने आधार को इस वजह से अनिवार्य किया है कि इससे सरकारी सहायता गलत हाथों में जाने से रुक गई. पहले साठ हजार करोड़ रुपये ऐसे लोगों तक पहुंच जाते थे, जिन्हें सरकारी सहायता की जरूरत नहीं थी. BIG BREAKING : चाईबासा मामले में लालू प्रसाद व जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा

About Ranjeet Jha 2231 Articles
I am Ranjeet Jha (पत्रकार)

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*