लालू-शहाबुद्दीन का टेप आया सामने, देश की सियासत गरम

lalu-shabuddin

लाइव सिटीज डेस्क : अर्नब गोस्वामी की लीड वाली चैनल रिपब्लिक के लांच होते ही राजनीति में बड़ी हलचल मच गई है. अर्नब ने चैनल के प्रारंभ होते ही ऐसा बम फोड़ा कि हर जगह चर्चाओं का बाजार गर्म है. चैनल रिपब्लिक ने सबसे पहला खुलासा राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद पर किया है. रिपब्लिक ने एक ऐसा टेप जारी किया है जिससे लालू प्रसाद पर गंभीर आरोप लगा है.



इस जारी टेप के अनुसार पूर्व राजद सांसद व बाहुबली मो. शहाबुद्दीन लालू प्रसाद को आर्डर देते हुए सुनाई दे रहे हैं. इस टेप के लीक होते ही राजद सुप्रीमो पर हमला तेज हो गया है. बेनामी संपत्ति के आरोपों से घिरे लालू प्रसाद के लिए अब यह नई मुश्किलें खड़ी हो गईं हैं. टेप में शहाबुद्दीन लालू से यह कहते सुनाई दे रहे हैं कि ‘ये सब तो दंगा करवा देंगे.  ख़त्म है आपका एसपी.”

जारी टेप में शहाबुद्दीन कहते हैं कि “रामनवमी के दिन सीवान में पुलिस तैनात नहीं होनी चाहिए थी. इतना ही नहीं शहाबुद्दीन दंगे होने की बात कहकर लालू को चेतावनी देने की भी कोशिश करता है. शहाबुद्दीन लालू को बताते हैं कि सीवान के आसपास रामनवमी के दिन पत्थरबाजी और गोलियां चली हैं. लालू यादव पूरी बात सुन रहे होते हैं और अंत में ‘एसपी को फोन लगाते हैं’ कहकर फोन रख देते हैं. ऑडियो में पहले कोई और फोन उठाता है. जिससे शाहबुद्दीन कहते हैं कि उनको लालू से बात करनी है. फिर वह शख्स लालू को फोन देता है.”

इस मामले में बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से एक्शन लेने को कहा है.  उन्होंने कहा कि ‍भारतीय जनता पार्टी का एक डेलिगेशन राज्य के गवर्नर रामनाथ कोविंद से भी मुलाकात करेगी.  वहीं जर्नालिस्ट अर्नब गोस्वामी ने भी बिहार के सीएम नीतीश कुमार को चैनल पर आमंत्रित करते हुए इस मामले में रिस्पोंड करने को कहा है.

जब लालू प्रसाद और शहाबुद्दीन से जुडी इस टेप पर जदयू से राज्यसभा सांसद शरद यादव से बात की गई तो उन्होंने कहा कि यह कोई बड़ी बात नहीं है. जेल में इस तरह से होते रहता है.

वहीं कांग्रेस समर्थित बिजनेसमैन तह्शीन पूनावाला ने इस रिपोर्ट को बेसलेस बताया है. उन्होंने कहा कि सिर्फ लालू प्रसाद को बदनाम करने और चैनल की टीआरपी बढ़ाने के लिए यह स्टोरी तैयार की गई है.  इस मामले में जब कांग्रेस लीडर व दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित से बोलने को कहा गया तो उन्होंने कहा कि दूसरे के ऊपर कमेंट करना मेरा स्टाइल नहीं है.

चैनल के अनुसार अभी तक राजद से न तो कोई प्रवक्ता सामने आया है और न ही स्वयं लालू प्रसाद इस मामले में अपनी चुप्पी तोड़े हैं. अपने शो में अर्नब ने कहा कि लालू यादव को पता चल गया था कि वह उनपर स्टोरी करने वाले हैं इसलिए लालू की तरफ से स्टोरी को रुकवाने के लिए उन्हें 37 से ज्यादा बार फोन किया गया था. लेकिन अर्नब ने नहीं उठाया.

इधर, लोजपा से सांसद चिराग पासवान ने भी बिहार सरकार पर हमला बोला है.

उन्होंने कहा है कि बिहार में सरकार नीतीश कुमार चला रहे हैं या लालू के गैंगस्टर ?

वहीं भाजपा नेता सिद्धार्थनाथ सिंह ने रिपब्लिक चैनल पर जारी लालू टेप को सुनने के बाद कहा कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार के पास लालू पर FIR दर्ज करवाने के अलावा और कोई चारा नहीं है.