बिहार चुनाव में मिली हार के बाद बोले चिराग- नीतीश कुमार से मेरी व्यक्तिगत कोई लड़ाई नहीं

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार चुनाव में मिली हार के बाद एलजेपी के अध्यक्ष चिराग पासवान ने आज पटना में प्रेस कांफ्रेंस बुलाई थी. जिसमें उन्होंने बिहार चुनाव में मिली का कारण तो बताया ही साथ ही बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सीएम बनने के लिए बधाई भी दिया है.

चुनाव हारने के बाद भी चिराग के तेवर देखने लायक हैं. चिराग ने कहा कि विपरीत परिस्थिति में भी हमने डटकर चुनाव लड़ा. ‘हमलोगों को चुनाव की घोषणा के बाद भी सीट और उम्मीदवार की जानकारी नहीं थी.’ गठबंधन को लेकर कुछ स्पष्ट नहीं था, इसलिए अकेले चुनाव लड़ा. पार्टी के एक मजबूत नींव को हमने खड़ा किया है.



उन्होंने आगे कहा कि लोजपा का प्रदर्शन चुनाव में बेहतर रहा है.  कई सीटों पर लोजना दो नंबर पर रही, लोजपा में अपना जनाधार खड़ा किया है. 2025 के लिए लोजपा मजबूती के साथ खड़ी है. चिराग ने 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव पर ज्यादा टिपण्णी तो नहीं की लेकिन यह जरुर कहते नज़र आए कि जितना हो सका उतना करने की कोशिश की.

चुनाव परिणाम पर चिराग ने कहा कि मंत्री बनना और सत्ता में बने रहना लक्ष्य होता तो गठबंधन में बना रहता. मैंने घुटने नहीं टेके किसी भी परिस्थिति में सीटों की संख्या जरूर कम है, लेकिन जनाधार बढ़ा है. अकेले 6 फीसदी वोट पाना बड़ी बात है.

चिराग पासवान भले ही अपने कई सीटों पर जेडीयू को हरा दिया हो, लेकिन वह खुद अपने भाई को रोसड़ा से चुनाव जीता नहीं पाए. वह बुरी तरह से हार गए. किसी तरह से मटिहानी से एक एलजेपी के उम्मीदवार अपने दम पर चुनाव जीते. जिससे एलजेपी का बिहार में किसी तरह से खाता खुला है.