लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आज लोकसभा में नागरिकता संशोधन बिल पेश कर दिया. इसको लेकर संसद में विपक्ष ने हंगामा भी किया. हालांकि इस दौरान अमित शाह ने विपक्षी पार्टियों और खासकर कांग्रेस को जमकर निशाने पर लिया. सदन में विपक्ष ने नागरिकता संशोधन बिल को अल्पसंख्यक विरोधी करार दिया. जिस पर अमित शाह ने विपक्ष को जमकर निशाने पर लिया.

इस दौरान केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर देश का बंटवारा 1947 में धर्म के आधार पर नहीं हुआ होता तो ऐसी नौबत नहीं आती. उन्होंने कहा कि इस देश का विभाजन तो कांग्रेस ने किया है, हमने नहीं.

लोकतंत्र में सबको विरोध का अधिकार

अमित शाह ने सदन में बोलते हुए आगे कहा कि पड़ोसी देशों में मुसलमानों के खिलाफ धार्मिक प्रताड़ना नहीं होती है, इसलिए इस बिल का लाभ उन्हें नहीं मिलेगा. इससे पहले केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद गिरिराज सिंह ने बिल के विरोध के सवाल पर कहा कि लोकतंत्र में सबको विरोध करने का अधिकार है. हालांकि, उन्होंने लगे हाथ यह सवाल भी कर दिया कि क्या पड़ोसी देशों में गैर-मुस्लिमों पर अत्याचार नहीं हो रहे हैं?

गिरिराज सिंह ने पूछा कि, ‘क्या यह सच नहीं है कि पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में गैर-मुस्लिमों के साथ अत्याचार हो रहा है. वहां गैर-मुस्लिम प्रताड़ित हो रहे हैं और उनकी आबादी तेजी से घटी है. धर्म के आधार पर बंटवारे के बाद भी हमने सर्वधर्म समभाव की भावना बरकरार रखी.

पड़ोसी देश में सुरक्षित नहीं हैं हिंदु माता-बहनें

गिरिराज सिंह ने एक ट्वीट में कहा है कि “कांग्रेस/नेहरू और जिन्ना ने 1947 में धर्म के आधार पर देश का बंटवारा किया. आज वहां ना उनका पूजा स्थल सुरक्षित है और ना ही उनकी बहू बेटी. आज मोदी जी-शाह जी जोड़ी ने पाकिस्तान अफगानिस्तान और बांग्लादेश में प्रताड़ित हो रहे अल्पसंख्यक का दर्द समझा और उन्हें आश्रय देने का फैसला किया.”

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान में गैर-हिंदुओं की माता-बहनें सुरक्षित नहीं हैं, उनके पूजास्थल सुरक्षित नहीं हैं. गिरिराज ने कहा कि सबको देखना चाहिए कि 1947 के बाद पाकिस्तान और बांग्लादेश में हिंदू की बेटियों के साथ बलात्कार हो रहा है. हमारा फर्ज बनता है कि उनके लिए भारत को शरणस्थली बनाएं.

दुष्कर्म के बढ़ते मामलों पर गंभीर है बिहार सरकार, 54 फास्ट ट्रैक कोर्ट का होगा गठन