पूर्णिया मामले में सीएम और बीजेपी नेता सार्वजनिक तौर पर मांगे माफी, नहीं तो करूंगा मानहानी का मुकदमा

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : पूर्णिया में शक्ति मलिक हत्याकांड में क्लीन चिट दिए जाने के बाद तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार पर हमला बोला. उन्होंने सरकार पर राजनैतिक साजिश रचने का आरोप लगाते हुए कहा कि राजनैतिक षड्यंत्र के तहत मुझे और मेरे भाई को फंसाया गया.

तेजस्वी ने पूर्णिया एसपी के बयान का हवाला देते हुए कहा कि पुलिस ने पूरे मामले में हम दोनों भाईयों की संलिप्त होने की बात से इनकार किया है. लेकिन जेडीयू और बीजेपी ने मेरा राजनीतिक चरित्र हनन करने का काम किया. अब जब सारी चीजें खुलकर सामने आ गयी तो क्या सीएम नीतीश माफी मांगेंगे.



तेजस्वी यही नहीं रूके उन्होंने यह भी कहा कि अब इस मामले की जांच होनी चाहिए कि किसके कहने पर शक्ति मलिक ने वो वीडियो बनायी, किसके कहने पर शक्ति मलिक की पत्नी ने हम दोनों भाईयों का नाम लिया और मेरे नाम से 50 लाख मांगने की वीडियों बनाकर जारी किया गया. आखिर इस सभी के पीछे कौन लोग है इस बात का खुलासा होना चाहिए.

2020 में एनडीए की सरकार की विदाई होता देख हताशा में इस प्रकार का घृणित कार्य किया जा रहा है. प्रदेश की जनता सब कुछ देख रही है. सीएम और बीजेपी नेता सार्वजनिक तौर पर माफी मांगे. माफी नहीं मांगने पर मानहानी का मुकदमा दर्ज करेंगे.

बता दें कि शक्ति मलिक हत्याकांड का पूर्णिया एसपी ने खुलासा करते हुए कहा कि हत्या राजनीतिक साजिश के तहत नहीं हुई थी बल्कि सूद के पैसे लेन-देन में हुई थी. इस हत्याकांड का मास्टर माइंड आफताब है जिसे गिरफ्तार कर लिया गया है. इस मामले में आधा दर्जन से अधिक आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए हैं.

इस मामले में नेता प्रतिपक्ष तेजश्वी यादव,तेजप्रताप यादव, राजद नेता अनिल साधु को मृतक की पत्नी के बयान के आधार पर चार सितम्बर को नामजद अभियुक्त बनाया गया था. तेजश्वी का नाम आने के बाद मामले  ने राजनीतिक शक्ल अख्तियार कर ली थी. मृतक की पत्नी ने आरोप लगाया था कि राजनीतिक कारणों से उसके पति की हत्या करवाई गई है.