जो लोग मेरे खिलाफ बोलते हैं, उनको मैं बधाई देता है, बोलते रहिये- नीतीश कुमार

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: मुजफ्फरपुर के मीनापुर में सीएम नीतीश कुमार ने जेडीयू प्रत्याशी के लिए वोट मानने के साथ साथ विरोधियों पर भी जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि आप काम पर वोट दीजिये, बयानबाजी पर नहीं. पति पत्नी को 15 साल काम करने का मौका मिला. नरसंहार हुआ, शाम के बाद लोग घर से नहीं निकल पाते थे. डर के मारे शाम के बाद घर से बाहर नहीं निकलना चाहते थे. कोई काम नहीं होता था. जो योजना के लिए केंद्र सरकार से भी आवंटन होता था राज्य सरकार को वो पैसा भी खर्च नहीं कर पाते थे ये लोग. उस समय जो योजना आवंटित होता था वह विकास में नहीं लगता था. दिलचस्पी सिर्फ अपने में थी. सिर्फ परिवार पति पत्नी बेटा बेटी. कुछ लोगों को वोट की चिंता रहती है, मुझे वोट की कोई चिंता नहीं है.

उन्होंने विरोधियों पर हमला बोलते हुए कहा कि कुछ लोग मेरे खिलाफ बोलते रहते हैं. उनको मैं बधाई देता हूं कि आप बोलते रहिये. मुझे कहते हैं कि मैं थक गया हूं. खुद बताएं कि दिल्ली में कहां रहते थे. कहां भागे रहते थे. अपने पिता और माता की जगह पर आने की कोशिश कर रहे हैं. इनको कोई जानकारी है पहले? किस चीज का अनुभव है. कुछ लोगों का उद्देश्य है बयानबाजी करना. अनाप शनाप बोलने का समय नहीं है.



हमलोगों ने कानून का राज कायम किया. प्रति वर्ष विकास का दर बढ़ा. हर व्यक्ति की आमदनी में वृद्धि हुई. यह तो कोई दावा नहीं कर सकता है कि सब लोग ठीक हो जाएगा. कुछ ना कुछ गड़बड़ तो करते रहना है. इनके बाएं दायें करने के बावजूद अपराध पर नियंत्रण हुआ. अपराध के मामले में देश में बिहार 23वें स्थान पर पहुंच गया है.

सीएम नीतीश ने अपनी उपलब्धियों को गिनाते गिनाते विरोधियों पर जमकर निशाना साधा. नीतीश कुमार ने तेजस्वी यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ लोग कहते हैं कि दस लाख नौकरी देंगे. इस 15 साल में एक लाख से भी कम रोजगार था बिहार में.

मीनापुर में सीएम नीतीश ने कोरोना को लेकर सभी उपलब्धियों को गिनाया. उन्होंने कहा कि यहां जांच का जो दायरा है वो सबसे अधिक है. बाहर जो प्रवासी मजदुर फंसे हुए थे उनको हजार रूपये की मदद दी गयी. जब केंद्रसरकार ने शुरू कर दिया ट्रेन का प्रबंध तब हजारों की संख्या में ट्रेन उन लोगों को बिहार लेकर आई. 22 लाख से भी ज्यादा लोग यहां आए. खासकर जिन जगहों पर कोरोना के ज्यादा मरीज थे, वहां से भी लोग यहां आए. सबको क्वारंटाइन सेंटर में रखने का काम किया गया.