पटना के लोगों को सीएम नीतीश ने दी सौगात, दीघा-एम्स एलिवेटेड रोड जनता को किया समर्पित

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क : पटना के लोगों को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बड़ी सौगात दी है. दीघा एम्स एलिवेटेड पुल का आज उन्होंने उद्घाटन किया. उत्तर से दक्षिण आने जाने वालों और राजधानी को जाम से निजात दिलाने में यह सड़क वारदान साबित होगा. इस मौके पर डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद, रेणु देवी, पथ निर्माण मंत्री मंगल पांडेय, सांसद रामकृपाल यादव, विधायक रीतलाल यादव मौजूद रहे.

समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा की एम्स – दीघा एलिवेटेड कॉरिडोर निर्माण का उदेश्य पटना स्थित एम्स हॉस्पिटल को बिहार राज्य के सुदूर क्षेत्रों एवं उत्तर बिहार को दक्षिण बिहार से द्रुत गति सम्पर्कता प्रदान करने हेतु किया गया है. इसके निर्माण के लिए उन्होंने सात वर्ष पहले जो सपना देखा था आज उसे पूरा कर एम्स पटना आने वाले मरीजों के लिए वरदान का रूप दिया है. साथ ही पटना से उत्तर बिहार आने जाने वालों और दक्षिण क्षेत्र से गंगा पार आने जाने वालों को काफी सहूलियत और कम समय मे आवागमन हो सकेगा.



सीएम ने कहा कि हमारा सपना था कि बड़े शहरों की तरह पटना में भी पूल के ऊपर पुल का रोमांचक सफर हो जिसे आज पूरा कर जनता को समर्पित किया गया. यह परियोजना बिहार में इस प्रकार की पहली एलिवेटेड परियोजना है. इस परियोजना में सोन नहर (खगौल-दीघा नहर) के ऊपर 8.45 कि०मी० की 4 – लेन एलिवेटेड रोड एवं इसके पहुंच पथ में 2 – लेन एवं 4 – लेन पहुँच पर्थ का निर्माण किया गया है.

इस परियोजना का निर्माण बिहार सरकार के उपक्रम बिहार राज्य पथ विकास निगम लि . द्वारा कराया गया है. परियोजना में पटना-मुगलसराय रेलखंड (दानापुर रेलवे स्टेशन के निकट ) के ऊपर एक आरओबी का निर्माण किया गया है जिसकी लम्बाई 106 मी० है, और यह आईओबी हिन्दुस्तान का सबसे लम्बा सिंगल स्पैन ओपन वेब स्टील ग्रीडर आरओबी है. इस एलिवेटेड परियोजना के निर्माण से पटना शहर को जाम से छुटकारा प्रदान करने में काफी मददगार साबित होगी साथ ही जे.पी. सेतु से परिचालित होने वाले यातायात को उत्तर बिहार जाने एवं उत्तर बिहार से नौबतपुर , औरंगाबाद इत्यादि जगहों पर जाने में काफी सहुलीयत प्रदान करेगी. सीएम ने एलिवेटेड रोड का जायजा लिया.

वहीं पथ निर्माण मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि 1289.25 करोड़ की लागत से निर्मित यह पथ राष्ट्र का सबसे लंबा 12.27 किलोमीटर का ऐलिवेटेड पथ है. पटना-दिल्ली रेल लाईन के ऊपर 106 मीटर लंबा रेलवे ओवर ब्रिज (आरओबी) इंजीनियरिंग का अनूठा नमूना है, जो दिखेगा. नेहरू पथ पर पूर्व से निर्मित आरओबी के कारण ऐलिवेटेड पथ की ऊंचाई लगभग 25 मीटर है, जिसका निर्माण अपने आप में काफी चुनौतीपूर्ण था, लेकिन उसे भी सफलतापूर्वक पूर्ण कर लिया गया. यह पथ व्यवसायिक दृष्टिकोण से भी लाभप्रद होगा. इसके अलावे राजधानी की सड़कों पर दबाव कम पड़ेगा और लोगांे का जाम से भी मुक्ति मिलेगी.

बता दें कि जमीन से 80 फिट ऊंचाई पर निर्मित बिहार के सबसे लम्बे एलिवेटेड सड़क पुल पर रोमांचक सफर के लिए अब वाहन फर्राटा भरेंगे. एनएच 98 के एम्स गोलंबर से शुरू होकर जेपी सेतु के दक्षिणी छोर तक बने इस सड़क की कुल लंबाई 12.7 किलो किलोमीटर है. परियोजना के तहत शहर पर 8.45 किलोमीटर में फोरलेन एलिवेटेड रोड का निर्माण किया गया है जबकि इसके 3.75 किलोमीटर पहुंच पथ में दो व चार लेन सड़क का निर्माण किया गया है.