बेगूसराय के तेघड़ा में सीएम नीतीश ने की चुनावी सभा, जेडीयू प्रत्याशी बीरेन्द्र कुमार के लिए मांगा वोट

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बेगूसराय जिले के तेघड़ा विधानसभा क्षेत्र में सीएम नीतीश कुमार ने चुनावी सभा की. इस मौके पर नीतीश कुमार ने तेघड़ा से जेडीयू प्रत्याशी बीरेन्द्र कुमार, बेगूसराय से बीजेपी प्रत्याशी कुंदन कुमार और बछवाड़ा से बीजेपी प्रत्याशी सुरेन्द्र मेहता को जीताने की अपील की.  

चुनावी सभा को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि पहले कौन सा काम हो रहा था. शाम होते-होते कोई अपने घर से बाहर निकलता था. ना पढ़ाई का इंतजाम, ना इलाज का, ना आने जाने का इंतजाम था. संप्रदायिक दंगा, नक्सलवाद, अपहरण होता था. बिहार के कारोबारी, डॉक्टर यहां से बाहर जाने के लिए विवश हो गए थे.



जब से हम लोगों को मौका मिला तब से न्याय के साथ विकास करने का काम किया. समाज के हर इलाके का विकास और हर तबके का विकास करने काम किया. उपेक्षित इलाका और तबका को मुख्य धारा में जोड़ने का काम किया. महिलाओं को सम्मान देने का काम किया. महिलाओं की जनप्रतिनिधि के रूप में नगण्य स्थिति थी. अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों को मुख्य धारा से जोड़ने की पहल की गयी.

पहले टर्म में हमने पंचायती राज संस्थाओं और नगर निकाय में महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण दिया. दलित, अति पिछड़ा और पिछड़ा वर्ग को आरक्षण दिया गया. परिणाम अच्छा आने लगा. तीन बार चुनाव हुआ महिलाओं को उचित सम्मान मिला.

पोशाक और साइकिल योजना चलाकर लड़कियों को स्कूलों तक पहुंचाया गया. लड़कों के लिए भी साइकिल योजना शुरू की गयी. रिजल्ट अच्छा आया. इस बार मैट्रिक में लड़की-लड़कों से भी थोड़ा ज्यादा हो गयी. महिला और पुरूष मिलकर काम करेंगे तभी समाज आगे बढ़ेगा.

नीतीश कुमार ने वगैर नाम लिए लालू-राबड़ी पर हमला बोलते हुए कहा कि पति अंदर चले गए पत्नी को सीएम बना दिया, फिर भी महिलाओं के लिए काम नहीं किया गया. आज 1.20 करोड़ महिलाएं जीविका समूह से जुड़ी है. क्या हाल था अपराध का पहले. आज हम लोगों के प्रयास से अपराध के मामले में बिहार 23वें स्थान पर है.

राज्य की आमदनी देश के अन्य राज्यों की तुलना से अधिक हो गया है. पहले क्या था कोई गांव में स्कूल दिखता था क्या?. इलाज कहां होता था, पीएचसी में उन लोगों के शासनकाल में एक महीने में 39 लोग जाते थे. लेकिन आज पीएचसी में औसतन 1-1 हजार लोग इलाज के लिए जाते हैं.

30 हजार टोला सेवक और तालिमी मरकज और स्वंय सेवकों को लगाकर विद्यालय से बाहर रहने वाले बच्चों को स्कूलों तक पहुंचाया गया. कुछ लोग बिना पढ़े लिखे ही सब कुछ पाना चाहता है. वो लोग क्यों नहीं सुधार किए. केन्द्र सरकार की ओर से बिहार के विकास में भरपूर सहयोग मिल रहा है.

हर जिले में इंजीनियरिंग कॉलेज, पोलिटेक्निक संस्थान, महिला आईटीआई खोला गया. पहले कहीं कोई काम हुआ था क्या?. राज करने का मौका मिला तो विकास क्यों नहीं किया. अपने अंदर चले गए खुद पत्नी को राज करने के लिए बैठा गए. आखिर विकास क्यों नहीं किया गया.

युवाओं के लिए स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना के तहत 4 लाख रूपए की मदद, स्वयं सहायता भत्ता योजना के तहत बिहार से बाहर कमाने वाले शख्स को 2 साल तक 1-1 हजार प्रतिमाह दिया जा रहा है. कौशल विकास योजना, संवाद कौशल और व्यवहार कौशल योजना चलायी गयी. 10 लाख लोगों ने इसका लाभ लिया.

पुलिस बल में महिलाओं को 35 फीसदी आरक्षण दिया गया. बिहार में सबसे ज्यादा पुलिस बल में महिलाएं हैं. हर घर बिजली पहुंचाने का वादा पूरा किया गया. हमलोगों ने हर घर बिजली पहुंचा दिया, अब लालटेन का जमाना खत्म हो गया. आज 83 प्रतिशत घरों में नल का जल पहुंच गया है.

लोग परिवार तक सीमित रहे, लेकिन मेरे लिए पूरा बिहार एक परिवार है. आगे भी मौका मिलेगा तो विकास की रफ्तार को और तेज किया जाएगा. अगली बार गांव-गांव में सोलर स्ट्रीट लाइट लगायी जाएगी. हर खेत तक सिंचाई के लिए पानी पहुंचाया जाएगा. कई गांवों को जोड़ते हुए महत्वपूर्ण सड़कों से जोड़ा जाएगा. 8-10 ग्राम पंचायत में एक पशु अस्पताल बनाया जाएगा. पशुओं की दवा मुफ्त दी जाएगी. नई टेक्नोलॉजी के माध्यम से पशुओं का इलाज किया जाएगा.

कोरोना को देश में बहुत हद तक नियंत्रित किया गया. बिहार में तो बहुत तेजी से नियंत्रित किया गया. 10 लाख की आबादी पर देश के औसत से बिहार में 4 हजार ज्यादा जांच हो रहा है. बिहार को पोलियो से मुक्ति दिलाने का काम किया गया. पर्यावरण के संरक्षण के लिए जल जीवन हरियाली अभियान अभियान चलाया जा रहा है.

बापू ने कहा था धरती लोगों के जरूरत को पूरा करने में सक्षम है किसी के लालच को पूरा करने में सक्षम नहीं है. हमारे यहां चंद लोग हैं जिनकी मानसिकता गड़बड़ है. उनकी कोई चिंता नहीं है. जो मेरे खिलाफ बयान देता है, हम उसको बधाई देते हैं. खूब दो मेरे खिलाफ बयान मुझे इसकी चिंता नहीं है. हमलोग काम में विश्वास करते हैं.