जेडीयू कार्यालय में पार्टी नेताओं से वन-टू-वन मिले सीएम नीतीश, सबकी जानी राय

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : जेडीयू अभी देश भर के सियासी गलियारे में सुर्खियों में है. अरुणाचल प्रदेश से जो सियासी उफान उठा है, वह बिहार में नहीं थम रहा है. सोमवार को लगातार तीसरे दिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पार्टी मुख्यालय पहुंचे. दो दिन वे जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में थे तो आज पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में. रविवार को उन्होंने अध्यक्ष पद से इस्तीफा देकर हलचल मचा दिया था. हालांकि, आज का कोई कार्यक्रम नहीं था, लेकिन नीतीश कुमार ने कार्यालय पहुंचकर सबको चौंका दिया. सोमवार को वे नेशनलफेम अपने पार्टी नेताओं से वन टू वन मिले. सबकी राय जानी.   

बता दें कि इसके पहले शनिवार और रविवार को जदयू के राष्ट्रीय परिषद और राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हुई थी. इसमें पश्चिम बंगाल चुनाव को लेकर भी मंथन हुआ. हालांकि, नवनियुक्त राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह पर पूरी तरह यह मामला छोड़ दिया गया कि पश्चिम बंगाल में जेडीयू कितनी सीटों पर चुनाव लड़ेगा. खास बात कि पश्चिम बंगाल से ज्यादा अरुणाचल प्रदेश का मुद्दा छाया रहा.



इधर, पहले दिन राष्ट्रीय नेताओं के साथ बैठक और दूसरे दिन राष्ट्रीय कार्यकारिणी की पूरे समय बैठक के बाद सोमवार को जेडीयू मुख्यालय में कोई बड़ा कार्यक्रम पहले से निर्धारित नहीं था. बताया जाता है कि रविवार की देर शाम तक चली बैठक के बाद भी जेडीयू महकमे में रात में भी अरुणाचल ही छाया रहा. अगले दिन सुबह के लिए देर रात तय हो गया कि नीतीश कुमार कुछ खास नेताओं से वन टू वन मिलेंगे.

सूत्रों के अनुसार, सोमवार को नीतीश कुमार ने नेशनल फेम कुछ नेताओं से अलग-अलग बात की. उन्होंने जानना चाहा कि जदयू का स्टैंड आगे क्या होना चाहिए? बिहार को अलग रखकर देश की राजनीति आगे बढ़ानी चाहिए या अरुणाचल प्रदेश में अच्छा रिश्ता रखने के बावजूद धोखा मिलने पर भाजपा को कड़ी सीख दी जानी चाहिए? हालांकि इस पर अभी अधिकृत रूप से कोई कुछ बोलने के लिए तैयार नहीं है. उम्मीद की जा रही है कि नए साल में इस पर कोई बड़ा निर्णय हो सकता है.