सीएम नीतीश अचानक पहुंच गए पुलिस मुख्यालय, बढ़ते अपराध पर पुलिस अधिकारियों की लगा दी भरपूर क्लास

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क: बिहार की विधि व्यवस्था को कसने को लेकर सीएम नीतीश काफी गंभीर है. अपराधी लगातार अपराध को अंजाम दे रहे हैं और इसपर नकेल कसने को लेकर पुलिस ने क्या रणनीति बनायी है इसका जानकारी लेने के लिए आज सीएम नीतीश कुमार आज सुबह-सुबह पटना के सरदार पटेल भवन पहुंच गए. मुख्यमंत्री का यह पूर्व निर्धारित नहीं था बल्कि अचानक वो पुलिस मुख्यालय पहुंच गए.

सीएम के पुलिस मुख्यालय पहुंचने की खबर ने पुलिस महकमे की नींद उड़ा दी. आनन फानन में पुलिस के आलाधिकारी दौड़ते भागते मुख्यालय पहुंचे. सीएम के साथ डीजीपी एसके सिंघल मौजूद थे. मुख्यालय में पुलिस के आलाधिकारियों के साथ करीब तीन घंटे तक बैठक हुई. इस दौरान पुलिस के अधिकारियों ने अपराधियों पर अंकुश लगाने के लिए बनायी गयी रणनीति को सीएम से शेयर किया.



2020 के दिसंबर महीने में भी इसी तरह अचानक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मुख्यालय पहुंच गए थे. उस दौरान भी घंटों बैठक कर अधिकारियों को कई दिशा निर्देश देते हुए कहा था कि अब मैं यहां आता जाता रहूंगा. ताकि जो भी रणनीति बनायी गयी है उसपर कितना कुछ अमल हुआ है इसकी जानकारी मिल सके.

बिहार में लगातार गिरती कानून व्यवस्था को लेकर विपक्ष सरकार पर हमलावर है. आए दिन प्रदेश के किसी ना किसी कोने में गंभीर अपराधिक घटनाएं हो रही है. जिसको लेकर सरकार की काफी किरकिरी हो रही है. जिस लॉ एंड ऑर्डर का राज कायम करने के लिए नीतीश कुमार जाने जाते है उसपर पर सवाल उठने लगे हैं. ऐसे में उन्होंने इसको कसने का मन बना लिया है.

बिहार विधान सभा चुनाव के बाद कानून व्यवस्था को लेकर भी CM नीतीश की यह चौथी बैठक है. उन्होंने बिहार विधानसभा चुनाव के बाद 28 नवंबर को पहली और 12 दिसंबर को दूसरी और 23 दिसंबर को पुलिस मुख्यालय पहुंच कर तीसरी बैठक की थी. इधर सीएम नीतीश बैठक पर बैठक कर रहे हैं उधर अपराधी वारदात को अंजाम पर अंजाम दे रहे हैं.

राजद ने सोशल मीडिया पर ‘अपराध सरेआम, जनता त्राहिमाम’ के नाम से जनहित में संदेश जारी किया है. इधर, कांग्रेस ने भी पिछले दिनों कहा था कि नीतीश कुमार के राज में अपराध में बेतहाशा वृद्धि हुई है. अपराधियों का मनोबल सातवें आसमान पर है.