… तो कांग्रेस से छिन जाएगा ‘हाथ’!, भाजपा ने चुनाव आयोग में डाली है याचिका

लाइव सिटीज डेस्क : अगर ऐसा हुआ तो कांग्रेस के लिए मुश्किलें बढ़ सकती हैं. दरअसल,  भाजपा नेता और अधिवक्ता अश्विनी उपाध्याय ने कांग्रेस के चुनाव चिन्ह पर ही आपत्ति जाहिर करते हुए चुनाव आयोग में अर्जी दाखिल कर दी है. भाजपा नेता ने चुनाव आयोग से कांग्रेस के चुनाव चिन्ह ‘पंजा’ को रद करने की मांग की है. इस संबंध ने दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता और अधिवक्ता अश्विनी उपाध्याय ने छह पेज की याचिका डाली है. छह पेज वाली इस याचिका में कहा गया है कि चुनाव के दिन मतदान केंद्र पर 100 मीटर की दूरी तक चुनाव चिन्ह का प्रदर्शन जनप्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 130 और चुनाव आचार संहिता के नियम चार का उल्लंघन है. इसलिए कांग्रेस का चुनाव चिन्ह ‘हाथ का पंजा’ रद किया जाना चाहिए.

चुनाव आयोग

अश्विनी का तर्क है कि किसी भी राजनीतिक दल को मनुष्य के किसी भी अंग के चित्र को चुनाव चिन्ह के तौर पर आवंटित नहीं किया जाना चाहिए. उन्होंने सोमवार को मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत से मुलाकात की. अश्विनी का कहना है कि इस संबंध में यदि उन्हें सुप्रीम कोर्ट भी जाना पड़ा तो वहां भी जाएंगे. अर्जी में दलील दी गई है कि ‘हाथ का पंजा’ मानव अंग है. इसका प्रदर्शन चुनाव के दिन मतदान से पहले और बाद में, मतदान केंद्र से 100 मीटर के अंदर और बाहर अक्सर किया जाता है. इससे किसी खास पार्टी के चुनाव चिन्ह का प्रदर्शन होता है.

भाजपा द्वारा अर्जी दाखिल किये जाने के बाद अब चुनाव आयोग का जवाब का इंतजार है. वर्षों पुरानी पार्टी के पास यह चुनाव चिन्ह बना रहेगा या चुनाव आयोग इस पर एक्शन लेगा. अब निगाहें इसी बात पर टिकी हुई हैं. मालूम हो कि करीब 20 वर्षों के बाद कांग्रेस के अध्यक्ष पद में बदलाव किया गया. सोनिया गांधी ने खुद को रिटायर घोषित करते हुए अपने बेटे राहुल गांधी को कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया है.  अब चुनाव आयोग भी होने जा रहा डिजिटली साउंड 

पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनते ही गुजरात विधानसभा चुनाव के नतीजों से कांग्रेस और राहुल गांधी दोनों गदगद हो गए हैं. लेकिन इस बीच भाजपा द्वारा चुनाव आयोग पहुँच कांग्रेस पार्टी के चुनाव चिन्ह को चुनौती दे दी है. जिससे अभी सियासत गरम हो सकती है.

About Ranjeet Jha 2666 Articles
I am Ranjeet Jha (पत्रकार)

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*