कृषि बिल के विरोध में कांग्रेस का प्रदर्शन, मुजफ्फरपुर में पीएम और सीएम का फूंका पुतला

लाइव सिटीज, मुज़फ़्फ़रपुर/अभिषेक : केन्द्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि बिल को कांग्रेस ने किसान विरोधी काला कानून बताया है. मुजफ्फरपुर में युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने टावर चौक पर प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया. इस दौरान कार्यकर्ताओं ने केन्द्र और राज्य सरकार विरोधी नारे लगाए.

युवा कांग्रेस के जिला अध्यक्ष सद्दाम हुसैन ने कहा इस कानून का  उसका असली मकसद जमाखोरी चालू करना, मंडी खत्म करना और खेती को निजी कंपनियों के हाथ सौंपना है.



अध्यादेश लागू होने पर व्यापारी कृषि उत्पाद खरीद कर जमाखोरी करके अपनी मनमर्जी से रेट तय करके बेचेंगे. इससे किसान और उपभोक्ता दोनों को नुकसान होगा. इसका एक ही उद्देश्य है कि कंपनियों को अधिक से अधिक लाभ हो इसलिए हमलोग अध्यादेश का विरोध करते हुए इस अध्यादेश को वापस लेने की मांग करते हैं .

बता दें कि इस बिल को लेकर राज्यसभा में आप, कांग्रेस, समेत कई दलों के सांसदों ने विरोध किया था. सांसदों ने बेल में आकर नारेबाजी की और उपसभापति के साथ अनियंत्रित व्यवहार किया.

सांसदों के असंसदीय व्यवहार को लेकर राज्यसभा के सभापति ने 8 सांसदों को पूरे सत्र के निलंबित कर दिया है. जिसके विरोध में सभी सांसदों ने संसद परिसर में धरना दिया.

कांग्रेस ने सांसदों के निलंबित किए जाने पर मोदी सरकार को आड़े हाथों लिया. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि देश सब कुछ देख रहा है. जनता इसका करारा जवाब देगी.