शकील अहमद का कांग्रेस ने लिया निलंबन वापस, 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी से बगावत करने पर हुई थी कार्रवाई

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : इस साल बिहार में विधानसभा चुनाव होने हैं. इसको लेकर कांग्रेस ने अपने नाराज नेताओं को मनाने की कोशिशें तेज कर दी है. पहले भावना झा का सस्पेंसन खत्म किया गया, अब पार्टी ने शकील अहमद को निलंबन मुक्त कर दिया है. इसको लेकर पार्टी के महासचिव मोतीलाल बोरा की ओर से पत्र जारी कर दिया गया है.

बता दें कि लोकसभा चुनाव में शकील अहमद मधुबनी लोकसभा सीट से कांग्रेस का टिकट चाहते थे. मगर महागठबंधन में जब सीटों का बंटवारा हुआ तो ये सीट वीआईपी (मुकेश सहनी की पार्टी) के खाते में चली गई थी. वीआईपी ने इस सीट से बद्रीनाथ पूर्वे को अपना उम्मीदवार बनाया था.



टिकट नहीं मिलने के कारण शकील अहमद नाराज हो गए थे. इसके बाद उन्होंने अपना नामांकन पत्र दो सेटों में एक कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार के रूप में और दूसरा निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर दाखिल किया था. बाद में जब कांग्रेस से बात नहीं बनी तो उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ने का फैसला किया था.

दरअसल, कांग्रेस के इस फैसले को बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है. बिहार में शकील अहमद बड़े चेहरे माने जाते हैं. शकील अहमद मधुबनी सीट से वे दो बार सांसद रह चुके हैं. मनमोहन सिंह की सरकार में वे राज्य मंत्री भी थे.