बिहार में इस तारीख से कोरोना टीकाकरण की शुरुआत, पटना डीएम ने बता दिया, इन लोगों को पहले दिया जाएगा…

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : सबकुछ ठीक रहा तो अगले 10 से 12 दिनों के अंदर भारत में कोरोना वैक्सीन का टीका लगाना शुरू हो जाएगा. वैक्सीन को हरी झंड़ी देने का काम अंतिम चरण में है. वैक्सिनेशन कैसे किया जाए, किसे पहले मिलना चाहिए और इसके रख रखाव को लेकर केन्द्र सरकार ने ब्लू प्रिंट तैयार कर लिया है.

दिसम्बर के अंतिम सप्ताह तक बिहारवासियों को भी कोरोना के वैक्सीन  मिलने शुरू हो जाएंगे. इसके लिए स्वास्थ्य विभाग और सरकारी तंत्र ने पूरी तैयारी कर ली है. वैक्सीन के आते ही कहां रखना है और किन अस्पतालों में वैक्सीन को स्टोर किया जाएगा, इसकी पूरी तैयारी प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के तरफ से कर ली गई है.

जिलाधिकारी कुमार रवि ने सिविल सर्जन, प्रतिरक्षण प्रभारी और जिला स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ बैठक कर पूरी योजना पर रणनीति बनायी. पूरे बिहार में जहां 73 सरकारी अस्पतालों की जबकि 333 प्राइवेट अस्पतालों की सूची तैयार कर ली गई है. सबसे पहले कोरोना मरीजों के साथ फ्रंटलाइन वर्करों और कोरोना वॉरियर्स को वैक्सीन लगाया जाएगा.  65 साल से ज्यादा उम्र के बुजुर्गों को प्राथमिकता में ऊपर रखा गया है जिसके तहत उन्हें पहले वैक्सीन लगाया जाएगा. उसके बाद अन्य मरीजों को वैक्सीन लगाई जाएगी.



कोरोना वैक्सीन की तैयारियों का विस्तृत खाका पेश करते हुए केन्द्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि 14 अप्रैल को प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार के विजयराघवन और नीति आयोग के सदस्य डॉक्टर वीके पॉल की सह-अध्यक्षता में वैक्सीन टास्क फोर्स की शुरुआत हो गई थी. इसके बाद सात अगस्त को डॉक्टर वीके पॉल और स्वास्थ्य सचिव की सह-अध्यक्षता में नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप ऑन वैक्सीन एडमिनिस्ट्रेशन का गठन किया गया था, जिसमें विशेषज्ञों के साथ-साथ पांच राज्यों को भी शामिल किया गया है.

उन्होंने कहा कि नेगवैक ने कुल 30 करोड़ प्राथमिकता वाले लोगों की पहचान कर ली है. इनमें एक करोड़ हेल्थकेयर वर्कर्स, दो करोड़ पुलिसकर्मी, सफाईकर्मी समेत अन्य फ्रंटलाइन वर्कर्स हैं. इसके अलावा 27 करोड़ ऐसे लोग हैं, जिनकी उम्र 50 साल से अधिक है. सबसे पहले इन्हीं लोगों को वैक्सीन दी जाएगी. वैसे राजेश भूषण ने यह भी साफ कर दिया कि इन तीन समूहों में एक साथ वैक्सीन की प्रक्रिया शुरू की जा सकती है.