मतगणना के लिए तैयार है भागलपुर, काउंटिंग हॉल की सुरक्षा बढ़ी, इन नियमों का करना होगा पालन

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: भागलपुर जिले की सात विधानसभा क्षेत्र- भागलपुर, सुल्तानगंज, नाथनगर, कहलगांव, पीरपैंती, गोपालपुर और बिहपुर में पड़े वोटरों की गिनती 10 नवंबर की सुबह आठ बजे से होगी. सुबह 9.30 बजे तक पहला रुझान आने की संभावना है. दोपहर 12 बजे तक प्रत्याशियों की जीत- हार की काफी हद तक स्थिति स्पष्ट हो जाएगी. सबसे पहले बिहपुर और सबसे अंत में भागलपुर व पीरपैंती का रिजल्ट आएगा.

भागलपुर विस सीट के 492 बूथों की मतगणना करीब 35 राउंड में होगी. जबकि बिहपुर के 391 बूथों की मतगणना 28 राउंड में होगी. शाम छह बजे तक आधिकारिक रूप से परिणाम की घोषणा होने की संभावना है. इधर, मतगणना को लेकर काउंटिंग हॉल की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. हर स्तर पर प्रशासनिक तैयारी पूरी कर ली गई है.



इस बार दो जगहों पर मतों की गिनती होगी. पीरपैंती, कहलगांव और सुल्तानगंज विधानसभा सीटों की मतगणना महिला आईटीआई और बिहपुर, गोपालपुर, भागलपुर और नाथनगर विस सीटों की मतगणना पॉलटेक्निक में होगी. इस दौरान जगह-जगह पर बैरिकेडिंग की जाएगी.

पार्किंग व इंट्री की भी विशेष व्यवस्था होगी. हर विधानसभा सीट के लिए 14 टेबल लगाए जाएंगे. एक कमरे में केवल सात टेबल रहेंगे. यानी एक विस क्षेत्र के वोटरों की गिनती दो कमरे में होगी. हर विधानसभा सीट के लिए 150 कर्मी की ड्यूटी लगाई गई है.

सबसे पहले पोस्टल बैलेट की गिनती की जाएगी:

सबसे पहले पोस्टल बैलेट की गिनती होगी. इसमें चुनाव कार्य में लगे कर्मियों द्वारा पोस्टल बैलेट से किए गए मतदान के अलावा सर्विस वोटर द्वारा डाक से मिले पोस्टल बैलेट शामिल है. अंत में ईवीएम के मतों में इसे जोड़ा जाएगा.

वीवीपैट के स्लिप का ईवीएम के वोटरों से होगा मिलान:

ईवीएम के वोट गिनने के बाद हर विधानसभा के किसी पांच बूथों के वीवीपैट की स्लिप की गिनती कर ईवीएम से प्राप्त मतों से मिलान होगा. वीवीपैट की पर्ची की गिनती में समय लगेगा. मिलान के बाद ही परिणाम की आधिकारिक घोषणा हो सकेगी.

इस निर्देश का करना होगा पालन:
1. मतगणना के दिन 10 नवंबर को सुरक्षा प्राप्त व्यक्तियों को अपने अंगरक्षकों के साथ मतगणना केंद्र की 100 मीटर की परिधि में आने पर रोक रहेगी.

2. जुलूस के लिए चलनेवाले वाहनों की अनुमति सक्षम प्राधिकार से लेनी होगी

3. निजी वाहन मतगणना केंद्र की परिधि के 200 मीटर के अंदर नहीं आ सकेंगे.

4. केंद्र के अंदर पहचान पत्र लगाए व्यक्तियों के अलावा कोई नहीं जा सकेंगे.

5. मतगणना केंद्र के 200 मीटर की परिधि में 5 या उससे अधिक लोगों के एक जगह पर इकट्ठा होने पर रोक रहेगी.

कर्मियों को बताएं मतों की गिनती के तरीके:
मतगणना को लेकर शनिवार को टाउन हॉल में 500 से अधिक कर्मियों को ट्रेनिंग दी गई. आखिरी प्रशिक्षण 9 नवंबर को दिया जाएगा. रविवार को समीक्षा भवन में सभी सात विधानसभा के आरओ को ट्रेनिंग दी जाएगी. ट्रेनिंग में रिपोर्ट बनाने का तरीका सिखाया गया. इस बार पोस्टल बैलेट की गिनती के इंतजार में कंट्रोल यूनिट के अंतिम राउंड के वोटरों की गिनती नहीं रुकेगी.