सी पी ठाकुर को स्वास्थ्य सेवा के लिए स्पेन में मिला बड़ा सम्मान

cpthakur
सीपी ठाकुर (फाइल फोटो)

पटना : भाजपा नेता व राज्य सभा के सांसद पद्मश्री डॉ सी पी ठाकुर अभी स्पेन के टोलेडो शहर में हैं . वे विश्व स्वास्थ्य संगठन (W.H.O.) जेनेवा के तत्वावधान में वर्ल्डलिस-6 कांग्रेस ऑर्गनाइजिंग कमिटी द्वारा आयोजित पाँच दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस में भाग लेने गए हुए हैं . यहां उन्हें कालाजार के क्षेत्र में विश्वव्यापी शोध एवं अद्वितीय योगदान के लिए “लाइफ टाइम अचीवमेंट” अवार्ड से सम्मानित किया गया है .

डॉ. ठाकुर को स्पेन में मिले इंटरनेशनल अवार्ड पर बहुतों ने बधाइयां दी हैं . वापस बिहार आने पर उनका अभिनंदन भी किया जाएगा . कालाजार जैसी प्राणलेवा बीमारी के उन्मूलन की दिशा में डॉ. ठाकुर प्रारम्भ से ही काम करते रहे हैं . शोध,टीका और दवा के निर्माण में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही है . इस कार्य के लिए देश-विदेश के कई प्लेटफार्म पर वे पहले भी सम्मानित किए जा चुके हैं .



राजनीति में प्रवेश के पहले डॉ. ठाकुर पटना के सबसे बड़े डॉक्टरों में शुमार थे . उनसे दिखाने को मरीजों की लाइन देर रात से ही लगनी शुरु हो जाती थी . रोग की पकड़ और सस्ती दवा लिखना तब डॉ. ठाकुर की पहचान थी . उस दौर में बहुत अधिक प्रकार के मेडिकल टेस्ट भी नहीं हुआ करते थे,डॉ. अपने तजुर्बे और मरीज के लक्षण से ही बीमारी को पहचान लिया करते थे .

डॉ. ठाकुर की यह पॉपुलैरिटी थी कि उन्हें पटना लोक सभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने को टिकट मिला था . पहली बार वे भाजपा से नहीं लड़े थे . जीत दर्ज कर पटना सीट पर कम्युनिस्ट के कब्जे को खत्म किया था . बाद में,उनका मुकाबला रामकृपाल यादव से होने लगा,जिसमें कभी जीत तो कभी हार मिली . अब तक वे भाजपा में आ चुके थे . बाद में,भाजपा ने उन्हें राज्य सभा मे भेजा .
डॉ. ठाकुर के पहले लोक सभा चुनाव के प्रचार को याद करने वाले लोग बताते हैं कि तब क्षेत्र में पार्टी से अधिक डॉ. के रुप मे उनकी पहचान बड़ी थी . हर दूसरे-तीसरे घर में उनके मरीज निकल आते थे .

प्रचार में भी वे आला और कंपाउंडर साथ लेकर चलते थे . गांव-टोले में ही वे मरीज को देखने लगते थे . तब कालाजार का प्रकोप चरम पर था और देश के स्तर पर वे इस रोग के सबसे बड़े विशेषज्ञ डॉक्टर के रुप में पहचान बना चुके थे .

यह भी पढ़ें-  रवीश ने कहा– हवा में 25 हेलीकाप्‍टरों में नेता सिर्फ चोरी के पैसे से उड़ते हैं
देश बचाओ नहीं बेनामी संपत्ति बचाओ रैली करने जा रहे हैं लालू