दार्जिलिंग में फंस गए हैं कई बिहारी, पहाड़ पर खुद जमीं हैं CM ममता

लाइव सिटीज डेस्क : दार्जिलिंग के पर्वतीय क्षेत्रों में भाषा विवाद में भड़की हिंसा के बाद वहां स्थिति तनावपूर्ण हो गई है. वर्तमान परिस्थिति को देखते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी स्वयं दार्जिलिंग में जमीं हुई हैं. सीएम ने कहा है कि उनकी पहली प्राथिमिकता यही है कि पहाड़ में फंसे करीब 10 हजार पर्यटकों को सकुशल निकाला जाए. बता दें कि इसमें बिहार के भी कई लोग फंसे हुए हैं. हेल्प लाइन नंबर जारी किये गए हैं. फ्री बस सुविधा भी मुहैया करायी जा रही हैं. सीएम पर्यटन मंत्री गौतम देव के साथ लगातार संपर्क में हैं.

हेल्पलाइन नंबर :  सिलीगुड़ी – 0353-2511974, दार्जिलिंग – 0354-2255749



मुख्यमंत्री की मौजूदगी से वहां  युद्ध स्तर पर पर्यटकों को निकालने का काम शुरू हो गया है. पहाड़ पर गोजमुमो द्वार आहूत 12 घंटे के बंद के बीच पर्यटकों को यहां से निकाला जा रहा है. इसके लिए पुलिस तथा प्रसाशन की ओर से विशेष इंतजाम किये गये हैं. एनबीएसटीसी की ओर से पर्यटकों को निकालने के लिए विशेष बसें चलायी जा रही हैं. दार्जिलिंग से शुक्रवार को पर्यटकों से लदी पहली बस को दिन के करीब 11 बजे रवाना किया गया. 

दार्जिलिंग में फंसे हैं बिहार, झारखंड व दिल्ली के कई पर्यटक

छुट्टियों के मौसम में दार्जिलिंग बिहार, झारखंड व दिल्ली के पर्यटकों को हमेशा से आकर्षित करता रहा है. ऐसे में इस साल भी काफी संख्‍या में बिहार व झारखंड से पर्यटक दार्जिलिंग गये हुए हैं. हिंसा के इस दौर में उनके परिजन उनकी वापसी के लिए परेशान हैं. इधर, दार्जिलिंग से सकुशल पर्यटकों को निकाल कर सिलीगुड़ी भेजा जा रहा है. 

दार्जिलिंग से किसी तरह से जान बचाकर पर्यटक सिलीगुड़ी आकर फंस गये हैं. खासकर दिल्ली, बिहार तथा दक्षिण राज्यों से आये पर्यटकों को अपने घर जाने की कोई व्यवस्था उपलब्ध नहीं हो पायी है. ऐसे पर्यटकों की संख्या काफी अधिक है जिनके पास एक या दो दिन बाद लौटने का टिकट है. ऐसे पर्यटक यहां के विभिन्न होटलों में ठहर गये हैं. सिलीगुड़ी के सभी होटल पर्यटकों से भरे पड़े हैं.

हालांकि बंगाल सरकार का दावा है कि सभी पर्यटकों को सुरक्षित यहां से निकाल लिया जायेगा. हिंसा के समय में भी मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी दार्जिलिंग में जमी हुई हैं. उनके साथ पर्यटन मंत्री गौतम देव भी अधिकारियों के साथ लगातार बैठक कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें-  बिहार में अभी वायरल है  रुकिए तनी,थाना में हैं,टॉप कर गया का रे !