IIT मद्रास ने ईजाद की यह तकनीक, आधे से भी कम कर देगा आपका बिजली बिल

लाइव सिटीज डेस्क : जिन लोगों को भारी-भरकम बिजली बिल आता है. उनलोगों के लिए यह जरूरी खबर है. इससे निजात पाने के लिए एक तकनीक ईजाद की गई है. जिसके इस्तेमाल से बिजली का बिल हर महीने 60 फीसद तक कम हो जाएगा. इसकी लागत दो कमरे वाले घरों में सिर्फ 25 हजार रुपये के आसपास आती है. आइआइटी मद्रास ने काफी रिसर्च के बाद डीसी तकनीक को खोज निकाला है. जो आपके बिजली बिल को आधे से भी कम कर देगा. इनका का दावा है कि जल्द इसका औद्योगिक उत्पादन शुरू हो जाएगा.

फिलहाल इस तकनीक के जरिये राजस्थान और असम के दस हजार से ज्यादा घरों को रोशन किया जा रहा है. बिजली की खपत कम करने वाली सोलर डीसी तकनीक का विकास हाल ही में आइआइटी मद्रास ने वर्षों के लंबे शोध के बाद किया है. इसके तहत सोलर पैनल को डीसी (डायरेक्ट करंट) तकनीक से जोड़ा जाता है. इसमें इस्तेमाल होने वाले सारे उपकरण जैसे बल्ब, ट्यूबलाइट, पंखा आदि डीसी तकनीक वाले ही होने चाहिए. कई कंपनियां इनके विकास पर भी काम कर रही हैं. उपभोक्ताओं को बिजली बिल देने और वसूली मामले में फिसड्डी है बिहार

सोलर डीसी तकनीक को विकसित करने वाले आइआइटी मद्रास के प्रोफेसर अशोक झुनझुनवाला ने बताया कि दो कमरे वाले घर के लिए एक किलोवाट का सोलर पैनल पर्याप्त होता है. वहीं, चार कमरे वाले घरों में दो किलोवाट के सोलर पैनल की जरूरत होगी. इसकी लागत 80 हजार के आसपास होगी. इससे घर में टीवी, पंखा, फ्रिज, एसी, कंप्यूटर सब चल सकेगा.

खास बात यह है कि इस तकनीक के तहत एक ऐसा इलेक्ट्रिक कन्वर्टर भी विकसित किया गया है, जिसकी मदद से 230 वोल्ट के एसी (अल्टरनेटिव करंट) को 48 वोल्ट के डीसी करंट में भी तब्दील कर दिया जाता है. प्रोफेसर झुनझुनवाला का कहना है कि इस तकनीक से चलने वाले उपकरणों को तैयार करने में देश की कई बड़ी इलेक्ट्रिकल कंपनियों ने रुचि दिखाई है. उनकी मानें तो जल्द ही डीसी उपकरण बाजार में उपलब्ध होंगे.

About Ranjeet Jha 2231 Articles
I am Ranjeet Jha (पत्रकार)

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*