नालंदा में जज पर जानलेवा हमला, अपराधियों ने गाड़ी पर की फायरिंग, बाल-बाल बचे न्यायाधीश

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार में अपराधी इस कदर बेलगाम हो गए हैं कि अब वे जज के वाहन पर हमला करने लगे हैं. गोली बरसाने लगे हैं. वह भी मुख्यमंत्री के गृह जिले में. ताजा मामला नालंदा के हिलसा का है. हिलसा कोर्ट से अपने आवास लौट रहे एडीजे-1 जय किशो दुबे के वाहन पर अपराधियों ने फायरिंग की. इस घटना में वे बाल-बाल बचे. खास बात कि सभी अपराधी पैदल ही थे.

सूत्रों के अनुसार, अपराधियों की संख्या आधा दर्जन के आसपास थी. मिल रही जानकारी के अनुसार, दोपहर में सूर्य मंदिर के पास दिनदहाड़े हुई इस घटना के बाद बाजार में अफरातफरी मच गई. घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस के सीनियर अधिकारी मौके पर पहुंच गए. मामले की जांच की जा रही है. बताया जाता है कि घटनास्थल से पुलिस को एक खोखा भी बरामद हुआ है. सूत्रों की मानें तो एडीजे पर अपराधियों ने तीन राउंड फायरिंग की है. हालांकि, अभी तक इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है.



बता दें कि आज ही सुबह छपरा में उस समय सनसनी मच गई, जब जेडीयू के पूर्व विधायक राम प्रवेश राय के छोटे बेटे प्रिंस कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी और शव को पुराना चिराई घर के निकट फेंक दिया. सूचना पाकर मौके पर पुलिस पहुंची, तब जाकर शव की पहचान हुई. ​​प्रिंस रात में दोस्​तों के साथ निकले थे. प्रिंस छपरा में टायर का बिजनेस करता था. हत्या की घटना के बाद से घर वालों की हालत खराब है. जानकारी मिलते ही सगे-संबंधी समेत उनके समर्थक घर पर पहुंचने लगे हैं. पीड़ित परिवार को ढांढस बंधा रहे हैं.

बता दें कि प्रिंस के पिता रामप्रवेश राय का पहले ही निधन हो चुका है. वे 2005 में छपरा से जेडीयू के टिकट पर विधानसभा का चुनाव जीते थे. वे जिला परिषद के अध्यक्ष भी रहे थे. जेडीयू से पहले रामप्रवेश राय आरजेडी में थे. बताया जाता है कि बुधवार की देर रात प्रिंस कुछ दोस्तों के साथ निकले थे. इसके बाद से उनका मोबाइल ऑफ आने लगा. गुरुवार की सुबह उनका शव मिला.

सीने में मारी तीन गोली

पुलिस के अनुसार, प्रिंस के सीने में अपराधियों ने तीन गोली मारी. मृतक के पास से दो मोबाइल, एक जिंदा कारतूस, 1020 रुपए बरामद हुए हैं. शव का पोस्टमॉर्टम कराए जाने के बाद पुलिस ने उसे घरवालों को सौंप दिया है. सदर डीएसपी मुनेश्वर सिंह के अनुसार, मामले की छानबीन की जा रही है. अपराधियों को पकड़ने के लिए छापेमारी तेज कर दी गई है.